नशे में हर्शल गिब्स ने खेली 175 रनों की आतिशी पारी

जब भी आक्रामक बल्लेबाज की बात आती है तो हमारे जहन मे सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज हर्शल गिब्स का नाम आता है। मैच फिक्सिंग से लेकर कई  विवादों मे फंस चुके इस खिलाड़ी ने क्रिकेट काॅरियर मे वो कर दिखाया जिसके लिए आज भी इन्हे याद किया जाता है। अब उस पर पूरे जीवन का प्रतिबंध है। इन्होंने 2006 में शराब के नशे में 111 गेंदों पर शानदार 175 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका को अप्रत्याशित विजय दिला दी थी।

यह भी पढ़ें –वेस्ट इंडीज टीम से शराब उधार मांगकर जश्न मनाया

हर्शल गिब्स का नाम आते ही इनकी कई विस्फोटक पारियां याद आ जाती हैं। इनके बारे में कई दिलचस्प किस्से हैं। हर्शल ने भले ही क्रिकेट को अपना काॅरियर चुना लेकिन इनका पहला प्यार फुट्बॉल ही था। स्कूल के दिनो में ये फुट्बॉल के बेहतरीन खिलाड़ी हुआ करते थे। इस दौरान इन्हे किसी ने सलाह दी कि इनको क्रिकेट को अपने काॅरियर के तौर पर चुनना चाहिए। इस सलाह के बाद ये क्रिकेट खेलने लगे और देखते ही देखते धुरंधर बैटमैन बन गए। फुटबॉल के इस बेहतरीन खिलाड़ी के सामने जाने माने गेंदबाज गेंदबाजी करवाते हुए खौफ खाते थे, और जब गिब्स शराब पी लेते थे तो सभी उनसे खौफ खाते थे। गिब्स खूब छक कर पीते थे।

यह भी पढ़ें – एक लाख में जब तक जियें, तब तक पियें…!

हर्शल गिब्स जब साउथ अफ्रीकन टीम मे शामिल थे तब इनसे बेहतर खिलाड़ी ओर कोई नहीं था। उल्लेखनीय है कि टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी पहले फुटबॉल खेला करते थे। धोनी की प्रतिभा का आकलन नहीं किया जा सकता, लेकिन ऐसा तो लगता है कि फुटबॉल और क्रिकेट का जरुर कोई रिश्ता रहा है।

12 मार्च 2006 को ऑस्ट्रेलिया ने दक्षिण अफ्रीका के सामने 433 रन का विशाल स्कोर खड़ा था। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया की जीत पक्की मानी जा रही थी। लेकिन हर्शल गिब्स की तूफानी पारी ने सभी विशेषज्ञों की भविष्यवाणी को फेल कर दिया। गिब्स ने आतिशी पारी खेलते हुए 111 गेंदो मे 175 रन बनाए थे। गिब्स की इस पारी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका ने यह मैच जीत लिया था।

यह भी पढ़ें – लड़खड़ाते हुए पहुंचे और शतक बनाकर लौटे गैरी सोबर्स

“टू द प्वॉइंट द नो होल्ड्स बार्ड ऑटोबायोग्राफी” में उन्होंने लिखा है कि शराब के नशे में खेली थी ये जबर्दस्त पारी। इस किताब के संस्मरण के अनुसार मैच से एक दिन पहले गिब्स ने जमकर शराब पी थी, ये नशा इतना था कि मैच मे भी दिखाई दे रहा था। पिच पर उनको सीधे खड़े होने तक में दिक्कत हो रही थी लेकिन जब उन्हें गेंद की धुनाई करना होती तो वह जबर्दस्त लय के साथ उसे बांउंड्री पार पहुंचा देते थे।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close