लाखों खर्च फिर भी नदी में मिल रहा गंदा पानी

मध्यप्रदेश के सीहोर शहर की लाइफ लाइन कहीं जाने वाली पार्वती नदी के पानी को स्वच्छ रखने में नगर पालिका सजग नहीं है। जिससे घरों से निकलने वाला गंदा पानी पाइप लाइन और नाले के जरिए नदी में आकर उसके पानी को दूषित कर रहा है। इसी पानी को 80 हजार से अधिक की आबादी पीकर अपनी प्यास बुझा रही है। इससे बीमारी फैलने का खतरा बढ़ गया है। बावजूद इसके अफसर, जनप्रतिनिधि लापरवाही दिखाने से बाज नहीं आ रहे हैं।

किला और अलीपुर क्षेत्र से नाले का गंदा पानी पार्वती नदी में आकर मिल रहा था। इस पानी को नदी से डायवर्ट कर दूसरी तरफ करने नगर पालिका ने योजना तैयार की थी। योजना के तहत किला क्षेत्र से पाइप लाइन डाली गई थी। पाइप लाइन के जरिए गंदे पानी को पार्वती नदी स्थित पुल के दूसरे तरफ डायवर्ट कर निकालना था। वहीं अलीपुर से पक्का नाला बनाकर उसके पानी को भी डायवर्ट करना था। अनदेखी का आलम यह है कि पाइप लाइन डालने के बाद उसकी ठीक तरह से देखरेख और साफ सफाई ही नहीं की गई। जिससे ओवरफ्लो पानी और बीच में कई जगह टूटी पाइप लाइन से निकलने वाला गंदा पानी सीधे नदी में आकर मिल रहा है। वहीं दूसरी तरफ से अलीपुर के नाले का गंदा पानी नदी में आ रहा है। जिससे नदी का साफ सुथरा पानी दूषित हो रहा है।

शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं नदी में मिल रहे गंदे पानी को रोकने स्थानीय रहवासी नपा के अफसर और जनप्रतिनिधियों को शिकायत दर्ज करा चुके हैं। इसमें उनकी तरफ से चौक पाइप लाइन की सफाई कराने के साथ ही जहां टूटी है उसकी मरम्मत करने की बात कहीं गई थी। वहीं अलीपुर के नाले का ठीक तरह से कार्य कर उसके पानी को दूसरी तरफ डायवर्ट करने का कहा था। बावजूद इसके उनकी आज तक सुनवाई नहीं हुई है। जिससे उनका आक्रोश ब्ढ़ता जा रहा है। उल्लेखनीय है कि एक सप्ताह पहले पार्वती पुल स्थित बैराज के गेट लगते ही नदी इस समय पानी से लबालब हो गई है।

पार्वती नदी के पानी को ही नगर पालिका नलों के माध्यम से शहर में सप्लाई करती है। ऐसे में समझा जा सकता है कि उनको किस तरह का पानी मिलता होगा। नागरिकों का कहना है कि कई बार नल में इस तरह गंदा पानी आता है कि वह उपयोग करने लायक नहीं रहता है। जिससे उनको इधर उधर से पानी का इंतजाम कर प्यास बुझाना पड़ती है। लोगों का कहना है कि अफसर भी इस दिशा में गंभीरता दिखाने की बजाएं लापरवाही दिखा रहे हैं।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close