बरेली के गावों का दर्द पहुंचा सीएम तक

कैंसर से जूझते यूपी के मीरगंज और आंवला के गांववालों की हकीकत सामने आई तो नेता और अफसर एक्शन में आ गए। केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने मुख्यमंत्री योगी को पत्र भेजकर कैंसर प्रभावित गांव के लोगों के दर्द से रूबरू कराया है। हैंडपंपों के जहरीले पानी पीने से बेमौत मर रहे लोगों को बचाने को कहा है। केंद्रीय मंत्री ने कैंसर प्रभावित गांवों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति के तुरंत इंतजाम करने को कहा है। केंद्रीय मंत्री की चिट्ठी के बाद प्रशासन ने कार्रवाई शुरू कर दी है। प्रशासन ने कैंसर प्रभावित गांवों में ओवरहेड टैंक से पानी की आपूर्ति का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। प्रस्ताव को मंजूरी के लिए एक-दो दिन में लखनऊ भेजा जाएगा।

मीरगंज के बहरोली समेत करीब 16 गांव कैंसर से बुरी तरह प्रभावित हैं। जबकि आंवला के चार गांव कैंसर से करहा रहे हैं। कई साल पहले मीरगंज गांवों में हैंडपंपों के पानी की जांच हुई थी। जांच में आर्सेनिक और फ्लोराइड की पुष्टि हुई थी। हाल में दोबारा हैंडपंपों के पानी की जांच कराई गई। पानी में आर्सेनिक और फ्लोराइड की मात्रा जानलेवा स्तर पर पाई गई है।

प्रशासन ने हैंडपंपों के पानी पीने पर पाबंदी लगा दी है। गांवों में मेडिकल कैंप लगाए गए। कैंसर से मरने वालों के इलाज के कागजात चेक किए गए। एफएसडीए ने गांवों में सब्जी और अनाज के सैंपल लेकर जांच को लैब भेजे हैं।

अब केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने गंभीरता दिखाते हुए सीएम योगी से कैंसर प्रभावित गांवों में शुद्ध पानी की आपूर्ति के लिए समग्र योजना बनाने को कहा है। ताकि ग्रामीणों को जहरीले पीने के पानी से राहत मिल सके।

वीरेंद्र सिंह, डीएम ने बताया कि केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने कैंसर प्रभावित गांवों में शुद्ध पेयजल का इंतजाम कराने के लिए सीएम को पत्र लिखा है। उसकी कॉपी मुझे भी भेजी गई है। कैंसर प्रभावित गांवों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेज जा रहा है।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close