पंजाब के रूपनगर शहर में बिगडी पेयजल व्यवस्था

पंजाब के रूपनगर की एक तिहाई आबादी को भाखड़ा नहर पानी की आपूर्ति करती है, लेकिन पिछले तीन दिन से पानी का जलस्तर भाखड़ा मेन लाइन में कम होने के कारण यहां के लोगों की प्यास नहीं बुझ रही है। हालात ये हैं कि वाटर व‌र्क्स ब्रांच बार- बार साइफन को चालू कर रही है, लेकिन भाखड़ा नहर से मेन वाटर व‌र्क्स ज्ञानी जैल सिंह नगर रूपनगर तक पानी की सप्लाई बाधित हो रही है। बीते 24 घंटे में चार बार साइफन से पानी की सप्लाई दी गई , पर वी भी बीच में बाधित रही।

बिजली की डिमांड घटने के साथ ही भाखड़ा डैम से पानी का आउटफ्लो कम हो जाता है। इसका असर भाखड़ा नहर में पानी के जलस्तर पर पड़ता है। अगर रूपनगर में साफइन के साथ वर्टिकल शाफ्ट का निर्माण होने के बाद वो चालू हालत में होती, तो साइफन के पानी छोड़ने का क्रम न के बराबर होता, लेकिन वर्टिकल शाफ्ट अभी निर्माणधीन है और निर्माण की समय सीमा 30 अक्टूबर है। उसके बाद ही वर्टिकल शाफ्ट चालू हो पाएगी।

भाखड़ा नहर से बीते पांच अक्टूबर से लगातार पानी का जलस्तर कम हो रहा है। पहले भाखड़ा नहर के नंगल डैम से 8661 क्यूसिक पानी छोड़ा जा रहा था, जो 14 अक्टूबर से 8500 क्यूसिक तक सिमट गया है। इन इलाकों में है ज्यादा समस्या रूपनगर के पुराने शहर मेन बाजार, पुल बाजार, ऊंचा खेड़ा, छोटा खेड़ा, हनुमान मंदिर गली, जैन मोहल्ला, माता रानी मोहल्ला, फूल चक्कर मोहल्ला, अली मोहल्ला, मिल नगर व चंद्रगढ़ मोहल्ले में पीने के पानी की सप्लाई पिछले दो दिन से अव्यवस्थित है।

शुक्रवार की सुबह शहर में एक बूंद पानी नहीं आया। वर्टिकल शाफ्ट का निर्माण होने से कम होगी परेशानी: माक्कड़ वहीं नगर कौंसिल रूपनगर के प्रधान परमजीत सिंह माक्कड़ ने कहा कि वर्टिकल शाफ्ट का निर्माण तेजी से हो रहा है। 30 अक्टूबर इसके निर्माण की समय सीमा है। निर्माण मुकम्मल होते ही इसे मेन लाइन से जोड़ दिया जाएगा। उसके बाद साइफन बंद होने की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा। फिलहाल जो दिक्कत पेयजल को लेकर आ रही है, वो भाखड़ा नहर में पानी का जलस्तर कम होने की वजह से है। इसका स्थायी समाधान फिलहाल संभव नहीं है। उम्मीद है कि जलस्तर आगामी दिनों में सामान्य हो जाएगा और समस्या का समाधान हो जाएगा।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close