क्यों बिक रहे हैं शहरों में आरओ

शहरों पीने के पानी की समस्या सबसे अधिक है। बड़े शहरों में तो अब लोग घरों में भी पानी को नहीं पूछते। कारण स्पष्ट है कि पानी दिन पर दिन लक्ज़री की श्रेणी में शामिल होता जा रहा है। पानी को लेकर जागरूकता के नाम पर आरओ की बिक्री में दिन पर दिन इजाफा होता जा रहा है। इस सम्बंध में इसी साल जून में नैशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने केंद्र सरकार से कहा है कि जिन इलाकों में पानी ज्यादा खारा नहीं है, वहां आरओ के इस्तेमाल पर बैन लगाया जाए क्योंकि इससे पानी की बहुत बर्बादी होती है और यह सेहत के लिए मुफीद भी नहीं है। हालांकि महानगरों में पानी सप्लाई करने वाले नगर निगमों का दावा रहता है कि उनका पानी शुद्ध है, लेकिन हकीकत यह है कि महानगरों में सबसे ज्यादा आरओ वॉटर प्योरिफायर ही बिक रहे हैं।

पूरे देश के ज्यादातर शहरों में पानी का स्रोत ग्राउंड वॉटर ही है। जमीन से निकले पानी को ही साफ करके वहां नगर निगम घरों में पानी की सप्लाई करते हैं। नगर निगम कच्चे पानी को साफ करके पाइपलाइन के जरिए लोगों के घरों में पहुंचाते हैं। वर्षांे से काई लगी पुरानी पाइप लाइन की सप्लाई में अशुद्धियां मिलती हैं। अगर कहीं लीकेज होती है तो सप्लाई वाले पानी में सीवर का पानी मिलने की आशंका बढ़ जाती है क्योंकि कई जगह पीने की पाइप लाइन और सीवर की पाइप लाइन एक ही परनाले में लगी होती हैं।

इस पानी को हासिल करने के लिए मोटर लगाने से भी गंदा पानी आ जाता है। कई बार यह पता नहीं होता कि पाइप में सप्लाई आ रही है या नहीं। मोटर चालू रहकर बाहर की गंदगी खींच लेता है। यह भी देखा गया है कि सबसे ज्यादा अशुद्धियां फेरूल से घरों तक जाने वाले पाइप में मिलती हैं। स्थिति यह है कि अगर पानी में गड़बड़ी आ रही है तो सबसे पहले लाइन की जांच कराएं। संभव हो तो पाइपलाइन बदलवा लें। फैरूल वह जॉइंट होता है, जहां पर जल बोर्ड की पाइपलाइन से घरों में पानी का कनेक्शन दिया जाता है। यहां लीकेज होने पर घरों के अंदर गंदा पानी सप्लाई होने लगता है।

यह जान लेना भी जरूरी है कि पानी में गंदगी किस तरह की होती है। पहली घुलनशील और अघुलनशील। ये केमिकल और बायलॉजिकल होती हैं। केमिकल अशुद्धियां कई बातों पर निर्भर करती हैं। अगर पानी के स्रोत के पास कारखाने हैं तो उनकी गंदगी पानी में जाएगी। इसी तरह सेनेटरी लैंडफिल की गंदगी रिसकर जमीन के नीचे के पानी को खराब कर देती है। इसी तरह खेतों के आस पास का पानी भी गड़बड़ हो सकता है अगर खेती में कीटनाशकों का बहुत इस्तेमाल होता है तो ये केमिकल अंडरग्राउंड वॉटर में मिलकर उसे गंदा कर देते हैं। इसलिए यह जानना सबसे पहले जरूरी है कि पानी में गंदगी है तो क्या है और पानी कहां से आ रहा है। इसके बाद ही आरओ आदि लगवाने के बारे में फैसला करना चाहिए।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close