वनटांगिया गांवों में बंद नहीं हो पा रहीं अवैध शराब भट्ठियां

यूपी में अवैध कच्ची शराब का कारोबार लगातार बढ़ने की खबरें दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं। यही नहीं, कच्ची शराब की मार्केटिंग के लिए अब आधुनिक तौर तरीके अपनाए जाने लगे हैं। जिस तरह बड़ी कम्पनियां अपने उत्पाद को ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए आनलाइन व्यवसाय कर रही है, उसी तरह अब कच्ची शराब की अवैध भट्ठियां चलाने वाले अपने ग्राहकों के फोन पर उनके बताए गए स्थान पर शराब पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं। प्रदेश के वनटांगिया गांवों में अभी भी हजारों की संख्या में अवैध कच्ची शराब की भट्ठियां संचालित हो रही हैं।

ये भी पढ़ें-अप्रैल में क्यों बदल जाता है हंड्रेड पाइपर्स का टेस्ट

हाल ही में यूपी सरकार ने वनटांगिया ग्रामों में रहने वाले लोगों का जीवन स्तर सुधारने के लिए उनको राजस्व ग्राम का दर्जा देते हुए सरकारी सुविधाओं से लैस किया है। जंगलों के आसपास बनी वनटांगिया बस्तियों, नदी, नाले व गन्ने को खेत की ही स्थायी उपलब्धता की तरह ही इन तमाम गांवों में अवैध कच्ची शराब की भट्ठियां कुटीर उद्योग की तरह लगातार पनप रही हैं । गोरखपुर वन प्रभाग के तिनकोनिया रेंज अन्तर्गत रजही वनटांगिया में भारी संख्या में अवैध शराब बनाने का कारोबार हो रहा है। सूत्र बताते हैं कि सिर्फ 40 रुपये में एक बोतल अवैध कच्ची शराब मिल जाती है, और यही शराब कभी कभी जहरीली हो जाती है तो पीने वाले अपनी जान भी गंवा बैठते हैं।

ये भी पढ़ें- देवताओं वाली शराब पिया करते थे राही मासूम रज़ा

सूत्रों का दावा है कि इस अवैध कारोबार में पुलिस व आबकारी विभाग की भूमिका संदेहास्पद है। जिस क्षेत्र में अवैध कच्ची शराब की भट्ठियों की शिकायत प्रशासनिक स्तर पर ज्यादा हो जाती है, वहां पुलिस व आबकारी के लोग प्लानिंग के तहत कुछ भट्ठियों तोड़कर अपना फोटो अखबारों में प्रकाशित करवा लेते हैं। अवैध शराब के खिलाफ बनाया गया कानून इस तरह है कि एक तरफ कारोबारी 60 एक्साइज एक्ट में जेल जाता है और जल्द ही वह जमानत पर छूट जाता है। एक कारोबारी ने बताया कि पुलिस और आबकारी विभाग को हम लोग प्रति भट्ठी के हिसाब से 1500 से दो 2000 रुपए प्रतिमाह देते हैं तथा कभी कभी कागजी खानापूर्ति करने के लिए एक व्यक्ति गिरफ्तार करा दिया जाता है। पुरूष जेल चले जाते हैं तो भी उनका धंधा बंद नहीं होता है। यह धंधा उनके घर की महिलाएं संभाल लेती हैं ।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close