स्मार्ट सिटी के तहत कैनाल वाटर सप्लाई प्रोजेक्ट की फाइल ट्रस्ट में अटकी

लुधिआना में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के एरिया बेस्ड डेवलपमेंट (एबीडी) में शामिल किए गए क्षेत्र में नहरी पानी की सप्लाई करने का प्रोजेक्ट फिलहाल अटक गया है। प्रोजेक्ट के लिए स्मार्ट सिटी लिमिटेड को करीब 1.8 एकड़ खाली जमीन की जरूरत है। नगर निगम यह जमीन इंप्रूवमेंट ट्रस्ट से लेने की बात कर रहा है।

स्मार्ट सिटी के सीईओ संयम अग्रवाल इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के पास एनओसी के लिए फाइल जमा करवा चुके हैं, लेकिन अभी तक यह फाइल ट्रस्ट में ही अटकी हुई है। स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने करीब पांच माह पहले इस प्रोजेक्ट के लिए वर्क ऑर्डर जारी किया था, फिर भी काम आगे नहीं बढ़ सका। निगम अफसरों का दावा है कि प्रोजेक्ट का डिजाइन तैयार है। जगह फाइनल होते ही काम शुरू कर दिया जाएगा।

स्मार्ट सिटी के एबीडी एरिया में घुमार मंडी, सराभा नगर, गुरदेव नगर को शामिल किया गया है। इस प्रोजेक्ट से इन इलाकों की करीब 50 हजार की आबादी को 24 घंटे पानी की सप्लाई नहरी पानी से देने की योजना है। प्रोजेक्ट का उद्घाटन 2019 में मुख्यमंत्री अपने जन्मदिन पर कर चुके हैं। इस प्रोजेक्ट पर स्मार्ट सिटी के तहत करीब 44 करोड़ रुपये खर्च होने हैं।

एबीडी एरिया में बिछाई जानी है नई पाइप लाइन

एबीडी एरिया में पांच किलोमीटर के करीब नई पाइप लाइन बिछाई जानी हैं जबकि इस एरिया में बने चार पुराने ओवर हेड टैंकों को वाटर सप्लाई के लिए प्रयोग में लाया जाएगा। स्मार्ट सिटी लिमिटेड पक्खोवाल रोड पर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की खाली जमीन पर अंडर ग्राउंड वाटर स्टोरेज टैंक व वाटर फिल्टर प्लांट लगाना चाहता है ताकि नहर के पानी को साफ करके लोगों के घरों तक पहुंचाया जा सके।

जमीन की कीमत पर नहीं हो रहा फैसला

वाटर स्टोरेज व ट्रीटमेंट प्लांट के लिए स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने जो जगह चयनित की है, वह प्राइम लोकेशन पर है। इंप्रूवमेंट ट्रस्ट अगर इस जगह को प्राइवेट बिल्डर को बेचे तो ट्रस्ट को करोड़ों रुपये मिलेंगे। ट्रस्ट भी इस जमीन की कीमत चाहता है जबकि स्मार्ट सिटी इस जगह को फ्री में लेना चाहता है। इस बात का सरकार के स्तर पर फैसला लिया जाना है।

प्रोजेक्ट में देरी हुई तो बढ़ जाएगी लागत

नगर निगम एबीडी एरिया में नहरी पानी की सप्लाई के लिए प्लांट व स्टोरेज टैंक बनाने के लिए जगह तलाशता रहा। जो जगह सही लगी, वह इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की है। उसने अभी तक एनओसी नहीं दी। जैसे-जैसे प्रोजेक्ट शुरू होने में देरी होगी, वैसे-वैसे प्रोजेक्ट की लागत भी बढ़ सकती है। इसका सीधा नुकसान स्मार्ट सिटी लिमिटेड को हो सकता है।

पूरे शहर में नहरी पानी से सप्लाई पर भी हो रहा काम

लुधियाना में पीने के पानी के लिए जमीन में से पानी निकाला जा रहा है। जमीन में से लगातार पानी निकाले जाने से भूजल स्तर हर साल करीब साढ़े तीन फीट नीचे जा रहा है। नगर निगम एबीडी एरिया के अलावा बाकी शहर में भी नहरी पानी से पीने के पानी की सप्लाई देने की योजना पर काम कर रहा है। इसके लिए निगम विश्व बैंक की मदद भी ले रहा है।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close