सीतापुर में भी अवैध कच्ची शराब पीने से तीन मरे

अभी बाराबंकी में शराब पीने से बीमार लोगों का लखनऊ के ट्रामा सेंटर में इलाज समाप्त भी नहीं हुआ था कि पड़ोसी जिले सीतापुर में भी अवैध कच्ची शराब पीने से तीन लोगों की मौत की खबर आ गई। चार लोग गंभीर रूप से बीमार भी हैं। सीतापुर में इससे पहले भी कच्ची शराब पीने से कई लोगों की मातें हो चुकी हैं।

सीतापुर जिले के महमूदाबाद के पैंतेपुर में कच्ची शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि चार की हालत गंभीर है। इन लोगों के परिजनों का कहना है कि स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी कच्ची शराब से मौत की एफआईआर नहीं लिखने का दबाव डाल रहे हैं। इन ग्रामीणों का ये भी कहना है कि पुलिस और प्रशासनिक अमला कह रहा है कि जो लोग मर गए हैं उन्हें लू लगी थी इसीलिए उनके पेट में असहनीय दर्द हुआ और मर गए लेकिन उनके परिजन कह रहे हैं कि कल शाम कच्ची शराब पीने के बाद से ही इन लोगों का हाल बिगड़ने लगा था। ग्रामीणों का कहना है कि पैंतेुपर में कच्ची शराब बनाने का बड़ा काम हैं। यहां से जिले के कई अन्य स्थानों पर कच्ची शराब की सप्लाई होती है। पैंतेपुर को कच्ची शराब के उत्पादन का हब भी कहा जाता है।

सीतापुर के जिला आबकारी अधिकारी और अन्य लोग इससे अच्छी तरह से वाकिफ हैं। वे जानते हैं कि पैंतेपुर में बड़े पैमाने पर कच्ची शराब बारहो मास बनती और बिकती है। सौभाग्य से यहां की बनी शराब से अभी तक कोई बड़ी घटना नहीं हुई है। तीन साल पहले भी यहां की बनी शराब से दो लोगों की मौत हो गई थी। इसके बावजूद यहां पर कच्ची बनाने का काम न तो धीमा पड़ा और न ही बंद हुआ। बंद होता भी कैसे, पुलिस स्वयं इस काम की ओर से उपेक्षा का भाव बनाए रहती है। जब कोई मरता है तो थोड़े दिन सरगर्मी दिखाई जाती है, बाद में फिर सब सामान्य हो जाता है।

इस बार की घटना में  पैंतेपुर में रविवार रात विजय, सुमेरी लाल व विनोद व कुछ अन्य लोगों ने घर में बनी कच्ची शराब पी। नागेश्वर ने बताया कि सोमवार रात उसके भाई विजय तबीयत बिगड़ना शुरू हुई और मंगलवार को उसने दम तोड़ दिया। परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना उसका अंतिम संस्कार कर दिया। बुधवार को हरद्वारी और विनोद की भी मौत हो गई, जबकि विजय, संतराम (38) , विपिन (30), चंद्रशेखर (40) की हालत गंभीर है। पुलिस ने दो शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेजे हैं। एसडीएम का कहना है कि रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह साफ हो सकेगी।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close