शिमला में पानी की किल्लत को लेकर धरने पर बैठे विधायक

शिमला जिले के ठियोग विधानसभा क्षेत्र में जल संकट की किल्लत को लेकर ठियोग के माकपा विधायक राकेश सिंघा मंगलवार को प्रमुख अभियंता सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य के कार्यालय पर धरने पर बैठ गए। राकेश सिंघा ने कहा कि ठियोग विधानसभा क्षेत्र आज गंभीर जल संकट से गुजर रहा है। आईपीएच की लगभग सभी स्कीमें फेल हो चुकी है।

उन्होने कहा कि आजादी के 72 सालों बाद भी अगर कोई सरकार आम जनता को पीने का पानी तक मुहैया न करवा पाए तो ऐसी सरकार को सत्ता में रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। संघा का कहना है कि मतियाना डिवीजन में 92 पद खाली पड़े हैं। तीन स्टेज का काम एक स्टेज का स्टाफ देख रहा है। कई टैंक बिना ढक्कन के हैं जिनमें जंगली जानवर गिर जाते हैं।

उन्होंने कहा कि ठियोग हल्का राजधानी से सटा है, लेकिन सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। यहां आईपीएमस कई लिफट स्कीमें ऐसी हैं, जिनमें राइजिंग मेन निष्क्रिय पड़े हैं। अधिकतर स्कीमों में पाइपें सड़ चुकी हैं। लिफट स्कीमों मतियाना.करयाली, महोग, शोलवी.गड़ाकुफर, लत्याना.झमोली के अलावा जंगल संधू, नेराखड्ड रईच, हलाई. मझोली, बेहनाखड्ड स्कीमें ठप्प पड़ी हैं।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close