गर्भावस्था के दौरान शराब पीने में इटली व ब्रिटेन की महिलाएं आगे

एक अध्ययन से यह बात सामने आई है की गर्भावस्था में शराब पीने के  मामले में इटली और ब्रिटेन की महिलाएं यूरोप में सबसे आगे हैं। अध्ययन में शामिल इटली की पांच प्रतिशत और ब्रिटेन की चार प्रतिशत महिलाओं ने माना कि गर्भावस्था के दौरान उन्होंने हफ्ते में एक या दो बार शराब पी। इस सर्वे में यूरोप के 11 देशों की लगभग आठ हजार महिलाओं को शामिल किया गया।

इस दौरान पता चला कि गर्भावस्था के दौरान हफ्ते में एक या दो बार शराब का सेवन करने वाली महिलाएं स्वीडन में 0.1 प्रतिशत, नॉर्वे में 0.2 प्रतिशत और फ्रांस में 0.5 प्रतिशत हैं। जहां तक गर्भावस्था की पूरी अवधि में एक या दो बार ड्रिंक करने की बात है तो ब्रिटेन और रूस में ऐसी महिलाओं की तादाद 25 फीसदी से ज्यादा है। वहीं इटली में गर्भावस्था के दौरान कम से कम एक बार शराब चखने वाली महिलाएं 18 फीसदी थी। ये अध्ययन करने वाली टीम में शामिल ओस्लो यूनिवर्सिटी की वैज्ञानिक अंगेला लुपातेली ने बताया, “मोटे तौर पर, गर्भावस्था के दौरान छह में से एक महिला ने शराब के सेवन की बात कही।”

शराब से आमदनी, शराब से नफरत…कौन आगे !

अध्ययन से साफ होता है कि नॉर्वे, स्वीडन और पोलैंड में सबसे ज्यादा महिलाएं गर्भावस्था के दौरान शराब से दूर रहती हैं। रूस में 26 प्रतिशत महिलाओं ने माना कि उन्होंने गर्भावस्था के दौरान शराब पी। लेकिन इनमें से 70 फीसदी महिलाओं ने सिर्फ एक या दो बार ही इसका सेवन किया। इस अध्ययन में बीयर की एक बोतल, वाइन के एक गिलास या अत्यधिक अल्कोहल वाले पेय के एक पैग को एक ड्रिंक माना गया है।

अध्ययन में कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान शराब के सेवन का चलन स्वास्थ अधिकारियों के लिए चिंता का कारण होना चाहिए। लुपातेली कहती हैं, “इटली के आंकड़ों को देखते हुए वहां विशेष मुहिम चलाने और नीतियां बनाने की जरूरत है ताकि बताया जा सके कि गर्भावस्था के दौरान अल्कोहल का सेवन कितना खतरनाक है।” बहुत से शोधों में साबित हो चुका है कि गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन बच्चे पर ऐसा असर डाल सकता है जिसे वह जिंदगी भर भुगतता रहता है।

loading...
Close
Close