ऑन लाइन ठगी, पैसे ट्रांसफर हुए पर नहीं पहुंचाई शराब

खाना पीना दोनों अगर ऑन लाइन से चलने लगे तो बात ही क्या है। लेकिन ऑन लाइन में ठगी भी कम नहीं है। वीकेंड और ठंड का मौसम आते ही कोल्ड बीयर सहित रम की मांग बढ़ जाती है। लोग ऑर्डर देकर घर पर ही शराब मंगवाना पसंद करते हैं लेकिन इन दिनों ऐसे लोग ठगों के निशाने पर हैं। दरअसल, ठग इंटरनेट में लिकर शॉप्स की डीटेल में अपना नंबर पोस्ट कर रहे हैं। ग्राहक उन्हें फोन करके ऑर्डर करता है और पेमेंट के बाद ऑर्डर डिलीवर नहीं होते पर उन्हें धोखाधड़ी का पता चलता है।

शाम गहराते ही चालू हो जाता है कार बाॅर

मुंबई में यह समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। मुम्बई के लगभग छह थानों की पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है। महाराष्ट्र वाइन मर्चेंट असोसिएशन में भी लगभग एक दर्जन वाइन शॉप के मालिकों ने शिकायत दर्ज कराई है। पुलिसवालों ने बताया कि मुंबई के बांद्रा, सैंटाक्रूज, घाटकोपर और चेम्बूर जैसे कई थानों में ऐसी शिकायतें दर्ज हुई हैं। इस केस की जांच कर रहे एक अधिकारी ने बताया, ऐसे कई ऐप्स हैं जो यूजर्स को सर्च इंजन पर व्यवसाय सूची जानकारी में परिवर्तन करने का अधिकार देते हैं। सामान्यतया, सर्च इंजनों को दुकान मालिकों या प्रबंधकों को किसी भी तरह का बदलाव होने पर उसका नोटिफिकेशन भेजना चाहिए, लेकिन ज्यादातर मामलों में ऐसा कोई भी नोटिफिकेश नहीं भेजा जाता है। दुकान के मालिक और उनके कर्मचारी या मैनेजर भी इसकी जांच नहीं करते हैं।

10 शराब की बोतलें, जिन्हें आप सहेज कर रखना चाहेंगे

बांद्रा के रहने वाले नीरज कोल्ला ने बताया कि उन्होंने अपने इलाके की सबसे अच्छी दुकान का नंबर इंटरनेट पर देखा और 1,300 रुपये का पेमेंट करके वाइन ऑर्डर की। उनसे ई वॉलेट में पेमेंट कराया गया। जब ऑर्डर डिलीवर नहीं हुआ तो पूछने पर उस व्यक्ति ने बैंक अकाउंट डीटेल मांगा और कहा कि रकम रिफंड कर देगा। तब लगा कि धोखाधड़ी हुई है। जब ऐप में लोकेशन चेक की तो पता चला कि वह व्यक्ति राजस्थान में था। बाद में पता चला कि मेरी तरह ही कई लोग ठगी का शिकार हो चुके हैं।

पूरी सैलरी शराब में उड़ा देते थे जार्ज वाशिंगटन

दूसरी तरफ दुकान वालों का कहना है कि इस तरह के मामलों से उनकी छवि खराब हो रही है और व्यापार प्रभावित हो रहा है। महाराष्ट्र वाइन मर्चेंट्स असोसिएशन के अध्यक्ष दिलीप ज्ञनानी ने बताया कि उन लोगों ने सभी दुकानदारों से कहा है कि वे इंटरनेट पर अपने दुकान की दी गई डीटेल चेक करते रहें। असोसिएशन के उपाध्यक्ष बाली रेखी ने कहा कि बीते तीन महीने में उनके पास पांच वाइन शॉप मालिकों ने इस तरह के फ्रॉड की शिकायत दर्ज कराई है। पोवई और अंधेरी से भी कई मौखिक शिकायतें आई हैं।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close