नगालैंड की पहली सांसद ने करा दी शराबबंदी

नगालैंड से लोकसभा का चुनाव जीतकर संसद में पहुंचने वाली रानो एम शाइजा पहली महिला सांसद थीं। इमरजेंसी के बाद हुए चुनाव में 1977 में उन्होंने नगालैंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री और कांगेस के उम्मीदवार होकिसे सीमा को पराजित किया था। रानो यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार थीं। नगालैंड में शांति बहाली में उन्होंने  महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्हें नगालैंड में पूर्ण शराबबंदी कराने के लिए भी याद किया जाता है। नगालैंड का समाज महिला सेंट्रिक है, महिलाएं भले ही मुखर हैं पर राजनीति में उनकी भागीदारी बिल्कुल नहीं रही है। शाइजा इसकी अपवाद रहीं।

बिहार की शराबबंदी भी चर्चा का विषय है चुनाव में

शाइजा का जन्म अंगामी नागा परिवार में नगालैंड के फेक जिले में 11 नवंबर 1928 को हुआ था। उनके पिता सेविली इरालू पेशे से डाॅक्टर थे। माता वितुलाई इरालू के भाई अंगामी जापू फिजो नाग सेपरेटिस्ट मूवमेंट के संस्थापक थ। शाइजा की पढ़ाई सेंट मेरीज काॅलेज शिलांग, काॅटेन काॅलेज गुवाहटी में हूई। इसके बाद उन्होंने स्कूल टीचर के तौर पर नौकरी शुरू की।

शराब कारोबारी का चंदा भी लौटा दिया था चरण सिंह ने

सादगी भरा जीवन जीने वाली शाइजा ने नागालैंड में पूर्ण शराबबंदी कराने में भी भूमिका निभाई। उन्होंने नगा मदर्स एसोसिएशन की स्थापना की थी। उनकी संस्था ने राज्य में पूर्ण शराबबंदी के लिए अवाज उठाई। उनके प्रयासों से ही नगालैंड पूर्ण शराबबंदी अधिनियम 1989 बना। राज्य में 29 मार्च 1990 को शराबबंदी लागू हो गईं।

शराब ही तो बंटवाई, जहर तो नहीं……हरदोई का मामला

शाइजा ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1970 के दशक में शिक्षक की नौकरी छोड़कर नगा आंदोलन में शामिल होकर की थी। बाद में वह नगा नेशनल काउंसिल की वूमेन फेडरेशन की पहली अध्यक्ष चुनीं गईं। इसके बाद वे यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी की पहली महिला अध्यक्ष चुनीं गईं। नगा आंदोलन के दौरान 1960 के दशक में वे 19 महीने तक वे जेल में भी रहीं।

जीते तो हर महीने 10 लीटर ब्रांडी देंगे अपने वोटरों को

शाइजा ने नगा शांति समझौता कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने आंदोलन के नेता अंगामी जाफू फिजो और तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभाई। शांति समझौते लिए उनकी भूमिका को याद किया जाता है। रानो शाइजा 1980 में भी लोकसभा का चुनाव लड़ी थीं, पर वे कांग्रेस उम्मीदवार से महज 5 हजार मतों से पराजित हो गईं। शाइजा नगालैंड की राजनिति में एकमात्र महिला चेहरा रहीं। पांच दशक में नगालैंड में कोई महिला विधायक भी नहीं चुनी जा सकी। 2015 में एक अप्रैल को उनका निधन हुआ।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close