शराब ही तो बंटवाई, जहर तो नहीं……हरदोई का मामला

इस लोकसभा चुनाव में हर दिन नेताओं के नए नए रंग देखने को मिल रहे हैं। हरदोई मिश्रिख लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी अशोक रावत के समर्थन में अतरौली में आयोजित जनसभा में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य और पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल ने खुले मंच से कहा कि हरदोई सम्मेलन के दौरान शराब ही तो बंटवाई थी कोई जहर नहीं बंटवाया था।

ये भी पढ़ें- जब यूपी के सीएम ने एक टल्ली मंत्री को घर से निकलवाया !

शराब आदमी का शौक ही तो है, नहीं तो ठेके बंद क्यों नहीं हो जाते ? नरेश अग्रवाल के लिए कहा जाता है कि वह जो करते हैं, डंके की चोट पर करते हैं। अतरौली में जिला पंचायत सदस्य ओम प्रकाश सिंह की ओर से बुलाई गई जनसभा में नरेश अग्रवाल ने कहा कि जनवरी में एक व्यक्ति ने लंच पैकेट में शराब बंटवाने की शिकायत मुख्यमंत्री से की थी।

ये भी पढ़ें- अप्रैल में क्यों बदल जाता है हंड्रेड पाइपर्स का टेस्ट

नरेश अग्रवाल ने बताया कि पिछले दिनों की बात है जब अनुसूचित जाति का सम्मेलन बुलाया था। अतिथियों ने कहा कि सर्दी लग रही तो कंबल वितरण करा दिया। फिर लोगों ने कहा कि अब भी सर्दी लग रही है तो हमने भी कह दिया कि सर्दी दूर भगाने की दवा भी दिलवा देते हैं। तो बाद में उन सब को दारू भी दिलवा दी गई।

ये भी पढ़ें- वोटिंग से पूर्व की रात, कथित रूप से शराब बंटने की रात !

गौरतलब है कि इस सम्मेलन में बांटे गए लंच पैकेट में कथित रूप से शराब के पाउच और शीशियां निकलने का वीडियो वायरल हुआ था। उन दिनों भाजपा में रहे सदर सांसद अंशुल वर्मा ने मुख्यमंत्री से इसकी शिकायत दर्ज कराई थी। हालांकि तब नरेश अग्रवाल ने यह कहकर जवाब देने से इनकार कर दिया था कि हल्के लोगों के आरोपों पर वे नहीं बोलते।

ये भी पढ़ें- चुनाव और अप्रैल, चल रहा अंग्रेजी में देशी का खेल

नरेश अग्रवाल का सियासी सफर कई पार्टियों के इर्द गिर्द फैला हुआ है। वह मूलतः कांग्रेस के हैं लेकिन कांग्रेस से निकलने के बाद उन्होंने सपा का दामन थाम लिया था। सपा के ही कोटे से वो संसद पहुंचे। पिछले दिनों जया बच्चन को राज्य सभा का टिकट दिए जाने के विरोध में उन्होंने सपा से इस्तीफा दे दिया था।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close