कम कसैला फ्लेवर, नशा भी हल्का, दीवाने बने युवा

बेंगलुरु में बियर कर चलन बढ़ता जा राह है, वजह है वैराइटी। यहां के पबों और बार में विदेशी बियर के ढेरों ब्रांड मौजूद हैं। यहां एक आईटी फर्म में काम कर रहे शमीम हैदर को मालूम है कि यहां के मशहूर पब टोइट में उन्हें कौन सी बियर ऑर्डर करनी है। उन्हें बेल्जियम के गेहूं से बनी बियर पसंद है। वह पहली बार पीने के बाद से ही इसके दीवाने बन गए। शमीम कहते हैं, मैं लाइट बीयर पीना पसंद करता हूं। बेल्जियम के गेहूं से बनी बियर मुझे सूट करती है। यह कड़वी नहीं होती है। शमीम हैदर इस दौर की उस नई पीढ़ी के युवाओं में शामिल हैं जो स्ट्रांग बीयर से इतर लाइट बीयर पसंद करते हैं जिसे लेगर्स कहा जाता है।

स्टार्ट अप का नया अड्ड़ा पब एंड बाॅर

बेल्जियम और जर्मन गेहूं से बनी बियर पूरे भारत के पबों में सबसे ज्यादा बिकने वाली ब्रांड हो गई है। नशा और कसैलापन कम होने के कारण लोग इसे हाथों हाथ ले रहे हैं। इसका फ्रूटी फ्लेवर भी बियर पीने वालों को खूब भा रहा है। मुंबई में गेटवे ब्रिविंग नाम से माइक्रोब्रेवरी कंपनी चलाने वाले नवीन मित्तल बताते हैं कि मुंबई और पुणे में क्रॉफ्ट बीयर सेगमेंट में इस बियर को लोग खूब पसंद कर रहे हैं।

10 शराब की बोतलें, जिन्हें आप सहेज कर रखना चाहेंगे

जर्मन गेहूं से बनी बियर में लौंग और बनाना फ्लेवर भी मौजूद है। इसके अलावा यीस्ट फ्लेवर तो है ही। इसी तरह बेल्जियम के गेहूं से तैयार बियर में भी दो फ्लेवर हैं, ऑरेंज और कोरिएंडर। ये फ्लेवर भारतीयों को बहुत सूट करते हैं। जर्मन सफेद गेहूं से बनी बीयर 2011 से ही लोगों के बीच खूब पसंद की जा रही है।

यूपी में होटल, क्लब, पब व रेस्टोरेंट में मिलेगी अब ताजी बीयर

बीयर इंडस्ट्री मुख्यत लेगर्स और एले दो ब्रांडों के बीच बंटी हुई है। लेगर्स को 8 से 10 डिग्री सेल्सियस के बीच फरमेंट किया जाता है जबकि एले को 18 से 20 डिग्री सेल्सियस में। टोइट के को फाउंडर सिबी वेंकटराजू बताते हैं कि गेहूं से बनी बियर यीस्ट की मौजूदगी के कारण फ्रूटी टेस्ट देती है। यह कम कसैली होती है जिसकी वजह से इसे पीना अच्छा लगता है। व्हाइट ऑउल बे्रवेरी के फाउंडर जावेद मुराद का कहना है कि वह भारत में जितनी बियर खपाते हैं उसमें से 75 परसेंट गेहूं निर्मित होती है। बाकी एले और स्टाउट होता है। गोवा और बेंगलुरु में यह रेशियो क्रमश 60 और 40 परसेंट है। इंडस्ट्री के लोगों का कहना है कि जिस तरह से भारतीय कम कसैली और कम नशीली बियर के सेवन को बढ़ावा दे रहे हैं उससे प्रेरित होकर स्पेन की एक बीयर कंपनी ने भी अपनी गेहूं बियर भारत के बाजार में उतार दी है। यह कंपनी पिछले छह सालों से देश में अपना कारोबार चला रही है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close