इस बार क्या नया होगा यूपी की नई आबकारी पॉलिसी में

यूपी सरकार नए वर्ष में शराब बिक्री को लेकर नई पॉलिसी लाने जा रही है। आबकारी अधिकारियों से इसके लिए तैयारी करने को कहा गया है। नई पॉलिसी में सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में स्कैन होकर शराब की बोतल बेची जाएगी। इससे नकली और अवैध शराब की बिक्री पर लगाम लगेगी।

शराब के सभी ठेकेदार अगले वर्ष से शराब की हर बोतल को स्कैन करके देंगे। इसके लिए जिले के सभी 811 देशी, विदेशी और बियर के ठेकेदारों को स्कैनर लगाने होंगे। इसके साथ ही शराब की दुकानें सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में चलेंगी। इससे आबकारी अधिकारी को शराब दुकान की मॉनीटरिंग करने में भी आसानी होगी। दुकानदारों को पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीन भी लगवानी होगी। यह सारा डाटा विभाग के ऑनलाइन पोर्टल पर मौजूद रहेगा जिसे आबकारी अधिकारी के साथ ही कोई भी आसानी से देख सकेगा। आबकारी अधिकारी बताते हैं कि वर्तमान में शराब ठेकेदारों को रजिस्टर पर अभिलेख दुरुस्त करना होता है। नई पॉलिसी आने के बाद उन्हे इन सब झंझटों से मुक्ति मिल जाएगी।

इसके साथ ही किस दुकान से कितनी शराब की बिक्री हुई अथवा कितना स्टॉक मौजूद है, यह भी आसानी से पता चल जाएगा। अधिकारी बताते हैं कि इससे अवैध शराब की बिक्री पर भी लगाम लगेगा। जिन शराब ठेकेदारों के पास कई दुकानें हैं वह अक्सर कोटा पूरा करने के लिए एक दुकान की शराब दूसरी दुकान से बेचते हैं जो अवैधानिक है। स्कैन व्यवस्था से इस पर भी लगाम लगेगा। शराब ठेकेदार वास्तविक कोटा ही बेच पाएंगे। जिला आबकारी अधिकारी अरविंद मौर्या ने बताया कि शासन में हुई बैठक में नई पॉलिसी का जिक्र किया गया था। नई पॉलिसी में शराब दुकानदारों को पीओएस, स्कैनर और सीसीटीवी भी लगवाने होंगे। सारा डाटा पोर्टल पर ऑनलाइन होगा।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close