गोवा के गांवों में झोपड़ी में जाकर पीजिए बियर और फेनी

गोवा के गांवों में आपके सामने भट्ठी  पर शराब तैयार कर आपको सर्व की जाएगी। इसके तहत ’झोपड़ी और बियर’ का प्लान तैयार किया गया है। यह प्लान गोवा सरकार तैयार कर रही है। इस तरह से पर्यटक की आवभगत का भी यह एक तरीका है। पर्यटक आराम से गोवा के शहरी माहौल से एकदम अलग गांव की सोंधी मिट्टी  की खुशबू का आनंद लेते हुए गोवा की देशी शराब या फेनी का लुत्फ ले सकेंगे।

इसी योजना को अमली जामा पहनाने के मकसद से गोवा सरकार ने अधिक से अधिक जमीन को कृषियोग्य भूमि के तहत लाने के इरादे से झोपड़ी और बीयर का एक खास प्लान तैयार किया है। एग्रो-टूरिज्म कॉन्सेप्ट के तहत डेप्युटी सीएम विजय सरदेसाई ने अपने प्लान का खुलासा किया। गोवा के फतोर्दा में समर एग्रीकल्चर कैंप की समाप्ति सत्र में उप मुख्यमंत्री विजय सरदेसाई ने अपने प्लान का खुलासा किया। उन्होंने कहा, उत्तरी गोवा में कृषि योग्य भूमि के जरिए पर्यटन अपने पांव पसार रहा है। अगर किसी को झोपड़ी बनानी है तो उसके लिए खेत का उपलब्ध होना जरूरी है।

उन्होंने बताया, अगर कृषि विभाग खेती की जमीन की मौजूदगी की पुष्टि करता है तो हम झोपड़ी बनाने की मंजूरी दे सकते हैं। झोपड़ी का निर्माण अस्थायी तौर पर ही होगा और बिना सरकारी मदद के होगा। यहां पर्यटकों के लिए फ्रेश बीयर का भी इंतजाम होगा।

सरदेसाई ने कहा कि हमें दुनिया को दिखाना होगा कि सेल्फ हेल्प ग्रुप चलाने वाली फतोर्दा की महिलाएं खेतों के बीच में झोपड़ी तैयार कर सकती हैं। यह सब कुछ प्रयोग के तौर पर किया जाएगा। झोपड़ियों में पर्यटकों को गांव के शुद्ध भोजन के साथ ही भट्ठी में तैयार ताजा बीयर भी सर्व किया जाएगा। गोवा सरकार और गोवा के पर्यटन उद्योग से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि इससे गोवा के पर्यटन पर गहरा असर पड़ेगा। कहा जा रहा है कि यूरोप और रूस से आने वाले पर्यटक यहां के बढ़ते शहरीकरण से बोर होने लगे हैं। उनके देशों में शहरीकरण यहां के शहरीकरण से अधिक व्यवस्थित है, यहां पर ये लोग गांव की शांति और गांव के वातावरण को इंजाय करना चाहते हैं। पिछले करीब दस वर्षों में विदेशी और देशी पर्यटकों ने गांवों का रुख ज्यादा किया है। जहां पर उन्हें न तो रुकने की जगह मिलती है और न ही बैठ कर पीने की व्यवस्था।

गोवा सरकार इस बात पर भी जोर दे रही है कि गोवा की देशी शराब फेनी का प्रचार भी सुनिश्चित करेगी। सरकारी सूत्रों का कहना है कि इतनी अच्छी देशी शराब किसी और स्थान पर नहीं बनती है जितनी अच्छी फेनी बनती है। केवल इसके प्रचार और झोपड़ी तथा बियर वाली स्कीम को लागू कर गोवा के पर्यटन और शराब के व्यापार को बढ़ाने की योजना अब गोवा सरकार स्वयं तैयार कर रही है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close