मलिहाबाद में आबकारी टीम ने पकड़ी कच्ची शराब की भट्ठी

कच्ची शराब बनाकर लोगो की जान से खिलवाड़ करने वालो के खिलाफ गुरूवार शाम को प्रशासन द्वारा मलिहाबाद के घोला गांव में अभियान चलाया गया। इस अभियान में एक युवक को गिरफतार किया गया है। जिसका नाम प्रेम बताया जा रहा है। अभियान और भी असरदारा हो सकता था अगर किसी अपने ने इस अभियान की जानकारी, कच्ची शराब के कारोबारीयों के साथ साझा नही कि होती। घोला गांव ऐसे गांव में गिना जाता है जहां पर हर घर में कच्ची शराब बनाने का काम चलता है आलम यह है कि यहां के लोगो के लिए यह एक कुटीर उद्योग के रूप में है।

क्या है मामला-

घोला गांव में गुरूवार शाम को मलिहाबाद व आबकारी पुलिस की संयुक्त टीम ने दबिश देकर शराब तस्कर प्रेम रावत को 110 लीटर कच्ची शराब व उपरण के साथ दबोच लिया और पुलिस के हवाले कर दिया।

मलिहाबाद पुलिस अब उसे जेल भेज कर अपनी पीठ थपथपा रही है। अवैध शराब के धंधे में लिप्त इसी गांव के कई अन्य धंधेबाज अभी पुलिस व आबकारी विभाग की टीम की पकड़ से बाहर हैं।

सूत्रों की माने तो छापे के दौरान पूर्व में उन कारोबारियों को छापे की सूचना दे दी गई थी। मलिहाबाद क्षेत्र के घोला व औलिया खेड़ा दो ऐसे गांव हैं, जहां घर-घर कच्ची शराब बनाने व बेचने के लिए मशहूर हैं।

12 जनवरी को हुए दतली शराब काण्ड के बाद जिला प्रशासन शख्त हुआ तो प्रशासन के साथ मिलकर कुछ जागरुक लोगों जागकता अभियान चलाया था। बाद में घोला गांव में काफी हद तक कच्ची शराब के कारोबार पर रोकथाम लग गई थी।

सूत्रों का कहना है कि गुरूवार शाम को जिस समय छापेमारी की गयी उस समय कई शराब कारोबारी शराब बनाने व बेचने में लगे हुए थे, लेकिन दबिश से पूर्व उन्हें सूचना मिल गयी और वह भाग निकले। छापेमारी के दौरान एक धंधेबाज प्रेम रावत को पकड़कर आबकारी पुलिस ने मलिहाबाद पुलिस को दिया और अब वह अपनी पीठ थपथपा रही है।

प्रेम रावत के कब्जे से 110 लीटर कच्ची शराब व शराब बनाने के उपकरण बरामद किए गए है। पुलिस टीम को मौके पर भारी मात्रा में लहन मिला था, जिसे वहीं पर नष्ट कर दिया गया। शराब बनाने के इतने अधिक उपकरण देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि कितना कच्ची शराब बनाने का कितना बड़ा धंधा यहां संचालित था।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close