अगले आबकारी सत्र के लिए शराब और बीयर की दुकानों का आवंटन दिसंबर में

आबकारी विभाग सत्र 2019-20 के लिए शराब और बीयर की दुकानों के आवंटन प्रक्रिया इसी साल दिसंबर में पूरी करने में जुटा है। इसके पीछे दो कारण हैं।  पहला आगामी लोकसभा चुनाव और दूसरा इस साल आवंटन में हुई देरी। इसके आलावा आबकारी विभाग में बैठको का दौर शुरू हो चुका हैं।  दुकानों का आवंटन ई- लाॅटरी के जरिए ही होगा।

ये भी पढ़े :-  303 दुकानें खत्म हुईं, फिर देसी और विदेशी शराब की खपत के साथ राजस्व में तेजी से इजाफा हुआ

बिना ई-लाॅटरी के रिन्यू होगा बार लाइसेंस

अगले आबकारी सत्र (2019-20) में उन शराब, बियर की दुकानों और बार का लाइसेंस बिना ई-लाटरी के रिन्यू होगा, जिन्होने नई आबकारी नीति में नवीनीकरण की तय शर्तों को पूरा किया है। नई नीति के मुताबिक देशी शराब के जो लाइसेंसी तय कोटे से 60 प्रतिशत से ज्यादा, अंग्रजी शराब के लाइसेसी 40 प्रतिशत से ज्यादा और बीयर दुकानदार 30 प्रतिशत ज्यादा सेल करेंगे, उन्हें ई-लाटरी से छूट मिलेगी। आधिकारीयों की मानें तो 65 से 70 प्रतिशत दुकानदार इन शर्तों को पूरा कर रहे हैं।

नीति सुधार 

अक्टूबर से ही आबकारी सत्र 2019-20 में दुकानों के आवंटन प्रकिया की तैयारियों का काम शुरू हो चुका है। पिछले दिनों आबकारी आयुक्त धीरज साहु ने विभाग के अफसरों, थोक व फुटकर दुकानदार और डिस्टलरी संचालको की बैठक की। इसमें दुकानदारों नई आबकारी नीति में आ रही दिक्कतों की जानकारी ली गई। अफसरों की मानें तों दिक्कतों का अध्ययन कर नई आबकारी नीति में संशोधन किए जाएंगे। शराब असोसिएशन की ओर से अधिकारीयों को ज्ञापन भी दिया गया, जिसमें उन्होनें अपनी समस्याओं का उल्लेख किया।

ये भी पढ़े :- बिना कुछ किए ही यूपी सरकार की कमाई बढ़ रही शराब से

दुकानें खुलने का समय बढ़ सकता है

असोसिएशन ने प्रदेश में शराब दुकानों के लिए तय समय बढ़ानें की मांग रखी है। अभी प्रदेश में शराब और बीयर की दुकानों के साथ बार का समय दोपहर 12 बजे से रात 10 बजे तक है। संभावना है कि संशोधन के बाद इसे पुर्वाह्र 11 बजे से रात 11 बजे तक किया जा सकता है। आबकारी अधिकारियों की माने तो अगले साल के लिए संशोधित आबकारी नीति में देशी शराब का कोटा 15 प्रतिशत बढाया जा सकता है। विभाग कुछ नए नियमों पर भी विचार कर रहा है।

चीयर्स  डेस्क 

loading...
Close
Close