ज़हरीली शराब के मृतकों के परिजनों का दर्द बढ़ाता प्रशासन

यूपी का प्रशासनिक ढर्रा कितना संवेदनहीन है इसका प्रमाण जब तब मिलता रहता है, कोई मर जाए, किसी का जीवन बर्बाद हो जाए, प्रशासन के कान पर जूं तक नहीं रेंगती। ताज़ा मामला यूपी के सहारानपुर का है जहां हाल ही में जहरीली शराब पी कर बहुत से लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी थी, जिसके बाद यूपी सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो दो लाख रूपए तथा गंभीर रूप से बीमार हो गए लोगों को 50 हजार रूपए की सहायता देने का वादा किया था। लेकिन अभी तक देवबंद में जो 15 लोगों की मौत हुई थी, उनमें से केवल तीन मृतकों के परिजनों को ही सहायता राशि मिल पाई है।

बात हो रही है सहारनपुर की देवबंद तहसील के गांव शिवपुर, खेडा मुगल, विलासपुर, डंकोवाली व नाफेपुर की जहां पर जहरीली शराब पीने से 15 लोगो की मौत हो गई थी। मरने वाले में अधिकतर लोग शिवपुर गांव के थे, तथा 4 लोग खेड़ा मुगल गांव के थे। यहां मृतको के परिजनों ने बताया कि केवल तीन परिजनों को आर्थिक सहायता के दो दो लाख रूपए मिले हैं, जिनमे नाफेपुर गांव से काला व राजू और शिवपूर गांव से बलधीरा हैं। बाकी 12 मृतकों के परिजनों को सहायता न मिलने के बारे में एसडीएम देवबंद का कहना है कि मृतकों के विसरा की जांच रिपोर्ट मिलने के बाद ही पता चल पाएगा की इन 12 लोगों की मौत जहरीली शराब से हुई है या नहीं, इसके बाद ही आर्थिक सहायता देने का निर्णय किया जाएगा।

खेड़ा मुगल गांव निवासी मृतक माठा के परिवार की हालत दयनीय है। उसके पुत्र नीटू ने बताया कि प्रशासन ने उन्हें उनके पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी तक नहीं सौपी है। इसी गांव के मंगल और सयेंद्र की मौत भी जहरीली शराब से ही हुई थी। मंगल के बेटे मदन और सयेंद्र के बेटे पोपिन ने कहा कि उनके पास बच्चों की स्कूल फीस देने के लिए भी पैसे नहीं हैं। इसी प्रकार गांव शिवपुर में धनपाल और विनोद की भी जहरीली शराब पीने से ही हुईं थी। विनोद के बेटे रजनीश ने बताया कि परिवार में अकेले पिता ही कमाने वाले थे, जिनकी कमाई से घर चलता था। रजनीश ने कहा कि उसको और उसके भाई बहनों की स्कूल फीस भी नहीं भरी जा सकी है। प्रशासन उनकी कोई सुध नहीं ले रहा है। इसी गांव के बलधीरा की मौत भी जहरीली शराब के पीने से हुई थी। उसके बेटे अमित कुमार ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जहरीली शराब से मौत होना दिखाया है किंतु प्रशासन की और से अभी तक कोई भी सहायता प्राप्त नही हुई है। गांव शिवपुर निवासी धर्मपाल की मौत भी जहरीली शराब पीने से हुईं थी। उनके परिवार में कोई भी कमाने वाला नहीं बचा है। परिवार में दो शादी लायक बेटियां और बच्चे हैं। उनके पुत्र ने कहा कि प्रशासन ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट ही नहीं दी, जिस कारण वह भी सहायता से वंचित है। वह दोनों बहनो की शादी किस तरह करेगा।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close