ये हैं सॉफ्ट ड्रिंक्स के रोचक फैक्ट

आज घर घर का हिस्सा बन चुके सॉफ्ट ड्रिंक के मशहूर ब्रैंड की शुरुआत के पीछे कई अजीबो गरीब कहानियां जुड़ी हैं। कुछ सॉफ्ट ड्रिंक्स में नशीले पदार्थों से लेकर दवाएं मिलाए जाने के आरोप लगते रहे हैं। वहीं कुछ सॉफ्ट ड्रिंक की शुरुआत बिना किसी योजना के हुई थी। आज ये सभी ब्रैंड दुनिया के सबसे ज्यादा बिकने वाले ब्रैंड्स में शामिल हैं। ऐसे ही पांच ब्रांड्स से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों को हम आपको बताना चाहते है।
कोका कोला
  • दुनिया की सबसे ज्यादा फेमस सॉफ्ट ड्रिंक की ओरिजनल रेसिपी सॉफ्ट नहीं थी
  • माना जाता है कि शुरुआती कोका कोला की रेसिपी वाइन मेरिना से बनी है। इसमें  एल्कोहल को मिलाया जाता था जिससे कोकाएथिलीन बनता था जो ज्यादा असरदार था।

मजबूरी में बनी फैंटा, शुरुआती कोक मेंं थी कोकीन, ये हैं सॉफ्ट ड्रिंक्स के रोचक फैक्ट

  • इस ड्रिंक की सफलता को देखकर अमेरिका के एक कैमिस्ट ने इसी फार्मूले पर अपनी कोका वाइन बनाई
  • 1886 में अमेरिका में शराब पर बंदी लगने से इस फॉर्मूले में एल्कोहल की जगह शुगर सिरप मिलाकर इसे कोका कोला का नाम दे दिया।
  • फिलहाल कोका कोला एपल और माइक्रोसॉफ्ट के बाद तीसरी सबसे बड़ी कंपनी है। वहीं ये अब तक की सबसे बड़ी फूड एंड बेवरेजेस कंपनी है।

फैंटा

  • माने या न माने फैंटा का निर्माण मजबूरी की वजह से हुआ था
  •  द्वितीय विश्व युद्ध से पहले जर्मनी में कोका कोला काफी फेमस थी, हालांकि 1938 के साथ यूरोप में हालात बिगड़ने लगे थे और जर्मनी में कोका कोला प्लांट को जरूरी सामान जुटाने में काफी मुश्किलें होने लगी थीं।
  • युद्ध शुरू होने के साथ जर्मनी के ऑपरेशंस हेड मैक्स कीथ को कोका कोला का प्रोडक्शन रोकना पड़ा। प्लांट को इस्तेमाल करने के लिए कीथ ने नई ड्रिंक निकालने का फैसला किया।

मजबूरी में बनी फैंटा, शुरुआती कोक मेंं थी कोकीन, ये हैं सॉफ्ट ड्रिंक्स के रोचक फैक्ट

  • नई ड्रिंक में उस समय जो भी उपलब्ध हो सकता था उसका इस्तेमाल किया गया।
  • नई ड्रिंक का नामकरण करते वक्त मीटिंग में कीथ ने अपने सेल्स टीम से उनकी फैंटसी ( जर्मनी फेंटासी) का इस्तेमाल करने को कहा। तुरंत ही एक शख्स ने फैंटा नाम लिया जो ड्रिंक का नाम बन गया।
  • लड़ाई के दौरान ये ड्रिंक काफी बिकी, 1943 में ड्रिंक के 30 लाख केस बिके।
  • युद्ध के बाद कोका कोला ने इस ड्रिंक का उत्पादन बंद कर दिया। हालांकि पेप्सी की तरफ से नए फ्लेवर के ड्रिंक लॉन्च करने के बाद 1955 में फेंटा फिर से मार्केट में उतर गई।

सेवन अप

  • सेवन अप 1929 के स्टॉक मार्केट क्रैश से सिर्फ 2 हफ्ते पहली ही लॉन्च हुई थी। इस क्रैश के बाद ही अमेरिका मे महामंदी देखने को मिली थी।
  • शुरुआत में इस ड्रिंक को किसी और नाम से उतार गया था। हालांकि रिलीज के कुछ समय के अंदर ही इसके ओनर चार्ल्स ग्रिग ने इस ड्रिंक का नाम बदलकर 7- अप रख दिया गया।

मजबूरी में बनी फैंटा, शुरुआती कोक मेंं थी कोकीन, ये हैं सॉफ्ट ड्रिंक्स के रोचक फैक्ट

  • ग्रिग ने कभी नहीं बताया कि इस ड्रिंक का नाम 7 अप क्यों रखा गया या फिर इसका मतलब क्या है। अब ये एक राज बन गया है।
  • एक थ्योरी के मुताबिक ओरिजनल ड्रिंक में लिथियम मिलाई जाती थी। लिथियम एक सॉल्ट है जो ग्राउंडवाटर में मिलता है। और इसका एटोमिक मास 7 के करीब है। खास बात ये है कि ये डिप्रेशन के इलाज में इस्तेमाल होती थी और मूड को बदल देती थी।
  • 1948 में लिथियम पर यूएसएफडीएन ने बैन लगा दिया, जिसके बाद 1950 में एक नए फॉर्मूले के साथ सेवन अप लॉन्च की गई।
  • 1978 में ड्रिंक को सिगरेट मेजर फिलिप मौरिस ने और1986 में डॉ पेपर स्नेपल ने खरीदा।

माउंटेन ड्यू

  • माउंटेन ड्यू दुनिया की तीसरी सबसे ज्यादा बिकने वाली कोल्ड ड्रिंक है। हालांकि इसकी सफलता के पीछे इसके फैन का बड़ा योगदान हैं।
  • माउंटेन ड्यू को पीने वालों 20 फीसदी ग्राहक ड्रिंक की 70 फीसदी सेल्स सुनिश्चित करते हैं।

मजबूरी में बनी फैंटा, शुरुआती कोक मेंं थी कोकीन, ये हैं सॉफ्ट ड्रिंक्स के रोचक फैक्ट

  • माउंटेन ड्यू के फॉर्मूले की इजाद किसने किया ये फिलहाल राज है हालांकि माना जाता है कि इसका ईजाद उन लोगों ने किया जो घर में बनी व्हिस्की में मिलाने के लिए सोडा का विकल्प ढूंढ रहे थे।
  • 1948 में दो भाइयों ने फॉर्मूले को बॉटल में भरकर बेचना शुरू किया लेकिन ये ड्रिंक ज्यादा नहीं बिकी तो इन भाइयों ने ये फार्मूला एक कंपनी को बेच दिया जिसे 1964 में पेप्सिको ने खरीदा।
  •  पेप्सिको की बेहतर मार्केटिंग ने ड्रिंक को फेमस कर दिया ।

रेड बुल

  • रेड बुल को एक एनर्जी ड्रिंक माना जाता है। हालांकि इसमें कॉर्बोनेटेड शुगर वाटर मिलाया जाता है इसलिए टेक्निकली ये एक सॉफ्ट ड्रिंक ही है।
  • कंपनी के को- फाउंडर ने अपनी पुरानी जॉब के दौरान थाइलैंड में जैटलेग दूर करने के लिए एक लोकल ड्रिंक पी। उसने उसी वक्त ड्रिंक बनाने वाले से मुलाकात कर कंपनी बनाने का फैसला कर लिया।

मजबूरी में बनी फैंटा, शुरुआती कोक मेंं थी कोकीन, ये हैं सॉफ्ट ड्रिंक्स के रोचक फैक्ट

  • लोकल ड्रिंक के मालिक के साथ मिलकर इस ड्रिंक को इंटरनेशनल स्टैंडर्ड का बनाया और रेड बुल का नाम दे दिया।
  • रेड बुल का फेमस स्लोगन रेड बुल गिव्स यू विंग्स को को-फाउंडर के दोस्त ने दिया था। जिसने रेड बुल को लेकर सिर्फ अपना रिएक्शन दिया था।
  •  महज कुछ लाख डॉलर से शुरू हुई रेड बुल अब 770 करोड़ डॉलर की कंपनी है।

चीयर्स डेक्स

loading...
Close
Close