शराब कारोबारियों को पुरस्कृृत करने पर हंगामा क्यों

उड़ीसा विधानसभा में इस बात पर काफी हंगामा हुआ कि सरकार उड़ीसा के शराब कारोबारियों को पुरस्कृृत करने के प्लान तैयार कर रही है। हालांकि इसमें कोई अनैतिकता की बात नहीं है क्योंकि शराब कारोबारी भी अन्य कारोबारियों की तरह ही होता है लेकिन इसके बावजूद जब तब इस प्रकार के विवाद खड़े होते रहते हैं।

उड़ीसा आबकारी गृह कमेटी के शराब बेचने के लिए पुरस्कृत करने के सुझाव पर सोमवार को विधानसभा में गरमागरम बहस हुई। इस मुद्दे पर आबकारी मंत्री ने सफाई भी दी है। इस प्रसंग पर पहली बार बोलते हुए आबकारी मंत्री निरंजन पुजारी ने सदन को बताया कि शराब बिक्री के प्रसार के लिए सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया है। मंत्री ने कहा कि सरकार हमेशा राज्य के हित के बारे में सोचती है और ध्यान देती है। विधानसभा में शराब बिक्री को लेकर गरमागरम बहस जारी थी कि इसी समय बीजद के ही खंडपड़ा विधायक सौम्य रंजन पटनायक ने कहा कि महिलाओं के आक्रोश को ध्यान में रखते हुए आबकारी नीति उनके अनुकूल बनायी जानी चाहिए। इसके लिए निष्पक्ष कमेटी बनाकर आबकारी नीति के बारे में निर्णय लेने का उन्होंने परामर्श दिया। इसके जवाब में मंत्री निरंजन पुजारी ने कहा है कि इस पर विचार किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि विगत 12 जुलाई को विधानसभा आबकारी गृह कमेटी के निर्णय को लेकर विवाद बढ़ा था। इस कमेटी का प्रस्ताव था कि शराब से राजस्व वसूली के लिए सरकार प्रोत्साहन देगी अर्थात जो लक्ष्य को पूरा करेगा उसे सरकार पुरस्कृत करेगी। इस निर्णय ने सभी को आश्चर्यचकित कर दिया था। एक तरफ शराब बंदी को लेकर सरकार जोर दे रही है। वहीं दूसरी तरफ लक्ष्य पूरा करने वालों को पुरस्कृत करने के निर्णय को सहजता से ग्रहण नहीं किया जा रहा है। इसे लेकर असंतोष देखा जा रहा है और इसी पर मंत्री ने सोमवार को अपनी बात रखी।

चियर्स डेस्क 

loading...
Close
Close