व्हिस्की का स्वाद और सुरूर बताने वाली जीभ तैयार

शराब की बोतलों पर लिखा होता कि कौन सी व्हिस्की कितनी पुरानी है, लेकिन इस दावे की सच्चाई किसी को पता नहीं होती। कम्पनी ने जो लिख दिया वही सही, और उसी हिसाब से दाम क्योंकि जो शराब जितनी पुरानी होती है उतनी ही मंहगी बिकती है। लेकिन अब शराब के इस संकट को हल कर लिया गया है। स्काॅटलैंड के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी जीभ तैयार की है जो व्हिस्की की असलियत को फौरन ही समझ लेगी। व्हिस्की के बारीक से बारीक फर्क को भी पहचान लेगी, यह जीभ बता सकती है कि व्हिस्की 12 साल पुरानी है, 15 साल या फिर 18 साल। यानी कि अब नकली माल नहीं चलेगा।

ग्लासगो यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने एक छोटा सा टेस्टर बनाया है जो एक ही ब्रांड की अलग अलग बैरल से निकली व्हिस्की के स्वाद का फर्क बता सकता है। यह सटीक पहचान करता है और 99 फीसदी सही नतीजे देता है। इस तकनीक से अलग अलग रसायनों को जटिल मिश्रण की पहचान की जा सकती है। इसका इस्तेमाल न सिर्फ क्वालिटी कंट्रोल के लिए बल्कि नकली अल्कोहल के कारोबार को रोकने की मुहिम में भी हो सकता है। परीक्षण के दौरान इसने कई बेशकीमती शराब के नकली नमूनों को पहचान लिया। ग्लासगो यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के एलस्डेयर क्लार्क का कहना है कि इसे कृत्रिम जीभ कहते हैं क्योंकि यह इंसान की जीभ की तरह ही काम करता है। हम लोगों की तरह ही यह ये तो नहीं बता सकता कि किस रसायन के कारण कॉफी का स्वाद सेव के रस से अलग है लेकिन दोनों जटिल रसायनों के मिश्रण के बीच का फर्क जरूर बता सकता है।

इसका तरीका यह है कि व्हिस्की को गोल्ड और एल्युमिनियम की चैकोर पट्टियों वाले बोर्ड पर उड़ेला जाता है। यह पट्टियां स्वाद पकड़ने वाले बिंदुओं की तरह काम करती हैं और रिसर्चर उसके बाद मापते हैं कि तरल में डूबे रहने के दौरान वो कैसे रोशनी सोखती हैं। गोल्ड और एल्युमिनियम की पट्टियों के रंग में मामूली परिवर्तन से परीक्षण किए जाने वाले हर नमूने का प्रोफाइल तैयार किया जाता है।

नकली शराब की पहचान करने के साथ ही इसका इस्तेमाल यह पता लगाने में भी किया जा सकता है कि खाने पीने की चीज सुरक्षित है या नहीं। व्हिस्की का मूल्यांकन करने वाली कंपनी रेयर व्हिस्की 101 ने बीते साल 55 दुर्लभ व्हिस्कियों का लैबोरेट्री में परीक्षण किया और फिर पता चला कि बाजार से खरीदी गई 21 व्हिस्कियां नकली थीं। अगर इन 21 बोतलों में असली व्हिस्की होती तो उनकी कीमत करीब 775,000 अमेरिकी डॉलर होती।

व्हिस्की के विशेषज्ञों के संगठन कीपर्स ऑफ क्वैच की निदेशक अनाबेल मीकल का कहना है कि शराब उद्योग जगत इस नई तकनीक का स्वागत करेगा।  उन्होंने कहा कि सचमुच हम एक उद्योग के तौर पर ऐसी चीज का स्वागत करेंगे जो नकली व्हिस्की की पहचान करने में मदद करे। मीकल का कहना है कि वह नकली व्हिस्की को स्वाद से पहचान सकती हैं लेकिन तकनीक बड़ी मात्रा में नियमित रूप से होने वाले मानवीय परीक्षण की जगह ले सकती है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close