लखनऊ से दो महीनों में 98 करोड़ आए गाय संरक्षण के लिए

यूपी में आवारा पशुओं और गाय के संरक्षण के लिए बने विशेष कोष के लिए केवल लखनऊ से अप्रैल में 52 करोड़ और मई में 46 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हो गया है। आबकारी विभाग के आंकड़ों के अनुसार केवल लखनऊ में शराब की बिक्री से दो महीनों में 98 करोड़ रुपए राजस्व की कमाई यूपी में आवारा पशुओं, विशेषकर गाय के संरक्षण के लिए शराब उपभोक्ताओं से प्राप्त हो गई है।

शराब से धन कमाने में लखनऊ मंडल टाॅप पर, नंबर दो मेरठ

याद रहे कि यूपी सरकार ने पिछले दिनों विशेष रूप से गाय तथा अन्य आवारा पशुओं के संरक्षण के लिए एक कोष की स्थापना की थी। सरकार के निर्देशों के अनुसार यूपी में शराब की बिक्री पर 0.5 सेस लगाने से जितनी आमदनी होगी, उसे इस कोष में जमा किया जाएगा। इस कोष से गाय तथा अन्य आवारा पशुओं के लिए हर जनपद में एक पशुओं के लिए एक चारागाह समेत एक आश्रय स्थल का निर्माण कराया जाएगा। इन आश्रय स्थलों में चारे की व्यवस्था तथा अन्य प्रकार की व्यवस्थाओं के लिए धन की आवश्यकता को देखते हुए सरकार ने शराब की बिक्री पर सेस लगाने का निर्णय लिया था।

 बिहार में हरियाणवी शराब की सप्लाई वाया यूपी

यूपी में शराब की बिक्री का वर्ष 2019-20 में 33000 करोड़ का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस पूरी धनराशि का 0.5 प्रतिशत 165 करोड़ रुपए होता है। आबकारी विभाग के आंकड़ों के अनुसार इस सेस को विशेष शुल्क के रूप में यूपी के शराब उपभोक्ताओं से लिया जा रहा है। चीयर्स डाॅट काॅम से बातचीत में डाक्टर जोगेन्द्र सिंह, संयुक्त निदेशक आबकारी विभाग का कहना है कि किसी प्रकार का गाय सेस नहीं लिया जा रहा है बल्कि विशेष फीस के रूप में यह सेस लिया जा रहा है। कितना राजस्व प्राप्त हुआ है दो माह में, इस पर उन्होंने कहा कि इसका आंकड़ा वह कुछ समय बाद दे पाएंगे।

हूट हो गए क्रिकेट मैच देखने पहुंचे शराब व्यवसायी माल्या

आबकारी राजस्व के निर्धारित लक्ष्य 33000 करोड़ रुपए के 0.5 प्रतिशत के हिसाब से केवल 165 करोड़ रुपए ही प्राप्त होने हैं। हाल ही में यूपी सरकार ने रेस्टोरेंट और होटलों में माइक्रो ब्रेवरीज़ के लिए नए नियमों की मंजूरी दी है। इससे प्राप्त होने वाले राजस्व को भी इसमें जोड़ लिया जाए तो यह विशेष शुल्क करीब 200 करोड़ तक होने का अनुमान है। इसी शुल्क को प्राप्त करने के लिए चालू वित्तीय वर्ष के पहले दो महीनों अप्रैल और मई में केवल लखनऊ से ही 98 करोड़ का राजस्व प्राप्त हो गया है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close