यूपी में पहली बार इस शहर में मिलेगी फ्रेश बियर

आगरा यूपी का पहला शहर बन गया है जहाँ कोई भी ताज़ी फ्रेश बियर का मजा ले सकेगा। आने वाले समय में आबकारी विभाग पांच और माइक्रो ब्रेवरीज को मंजूरी देने की प्रक्रिया में है, जिनमें से एक लखनऊ में होगी, आने वाले हफ्तों में इसके लाइसेंस दिए जा सकते हैं। माइक्रो ब्रेवरी की स्थापना के लिए आगरा के एक रेस्तरां को 1961 के नए संशोधित यूपी ब्रेवरी नियम के तहत सरकार द्वारा एमबी -5 लाइसेंस जारी किया गया। ये प्रदेश में जारी किया गया पहला ऐसा लाइसेंस है। अधिकारियों का कहना था कि शहर का चयन, वहां लाखों की संख्या में आने वाले विदेशी और घरेलू पर्यटकों के कारण लिया गया।

उन्होंने कहा, ” ताजी फ्रेश बियर की भारी मांग है, जिसके कारण राज्य इस नीति को लाया गया। महाराष्ट्र, कर्नाटक और तेलंगाना जैसे राज्यों में पिछले कुछ समय से माइक्रो ब्रेवरी के प्रावधान हैं और इससे राज्य में पर्यटन और रोजगार को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि सरकार को अगर और अधिक आवेदन प्राप्त होते हैं तो वे उन्हें भी लाइसेंस प्रदान करेगी।आगरा में अनुमति इस शर्त पर दी गई है कि यूपी ब्रेवरी नियमों का अनुपालन किया जाएगा। नियमों का उल्लंघन करने पर प्रति दिन 5,000 रुपये का जुर्माना लगेगा। आबकारी विभाग ने कहा कि आगरा ग्राहकों को ताजी बियर परोसने वाला पहला शहर बन जाएगा।
इस साल जून में घोषित यूपी ब्रेवरी रूल्स -2019 ने माइक्रो ब्रेवरी के लिए वार्षिक लाइसेंस शुल्क 2.5 लाख तक तय किया है। एक लाख रुपये का गारंटी शुल्क भी निर्धारित किया गया है। नियमों में 600 लीटर की सीमा तय की गई है जिसे प्रत्येक दिन माइक्रो ब्रेवरी को उत्पादन की अनुमति होगी। इसके साथ ही 2.1 लाख लीटर की वार्षिक उत्पादन सीमा तय की गई है।
चीयर्स डेस्क 
loading...
Close
Close