मोरासागर बांध से दिलाया जाए पीने का पानी

राजस्थान में सवाई माधोपुर के बामनवास उपखण्ड मुख्यालय पर इस बार बारिश कम होने की वजह से अधिकांश जल स्त्रोत सूखे पड़े हैं। इससे लोगों को आगामी दिनों में पानी के संकट का सामना करना पड़ सकता है। गौरतलब है कि इस बार उपखण्ड मुख्यालय पर पूरे बारिश सीजन के दौरान 450 एमएम से भी कम बारिश हुई है। ऐसी स्थिति में जलस्त्रोत के रूप में काम आने वाले बिछव तालाब, गूमला तथा रामतलाई आदि रीते पड़े हैं।

ये तीनों जलस्त्रोत कस्बेवासियों की लाइफ लाइन हैं। लोग इन जलस्त्रोतों पर नहाने-धोने के अलावा अपने मवेशियों को पानी पिलाने के लिए आश्रित हैं। पट्टीखुर्द निवासी जत्तीराम मीना एवं भैरूलाल मीना ने बताया कि अब बारिश के कोई आसार नहीं हैं। इससे आने वाली गर्मियों में उनके सामने भारी पेयजल संकट की समस्या आना तय है।

स्थानीय ग्रामीणों ने जलसंकट के निवारण के लिए अब जिला प्रशासन से मोरासागर बांध से पानी मुहैया कराने की मांग की है। ग्रामीणों की ओर से जिला प्रशासन को भेजे गए पत्र में अवगत कराया कि पूर्व में भी बारिश की कमी के दौरान कस्बे के जलस्त्रोतों में मोरासागर बांध से पानी पहुंचाया गया था। बांध की मोरी खोलकर नहरों के माध्यम से कस्बे के जलस्त्रोतों में पानी भरने की लोगों की मांग से जनप्रतिनिधियों को भी अवगत कराया है। ग्रामीणों ने बताया कि बांध में करीब 10 फीट पानी है तथा केवल आधा फीट पानी व्यय कर इन जलस्त्रोतों को भरा जा सकता है। उन्होंने जिला प्रशासन से आग्रह किया कि पहले पेयजल के लिए पानी उपलब्ध कराया जाए। इसके बाद मोरासागर बांध के कमांड क्षेत्र के किसानों को फसल सिंचाई के लिए पानी दिया जाए।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close