खर्चीली शादियों से कमाई बढ़ाने के चक्कर में बियर कंपनियां

भारत महंगी और आलीशान शादियों के लिए विश्व भर में जाना जाता है। यहाँ शादियों में बेशुमार पैसा खर्च करने की रिवायत है और शराब  के बारे में तो क्या कहना, शादियों या पार्टियों में शराब पहले छुप छुपा के पी जाती थी मगर अब तो खुलेआम शराब परोसे जाने का चलन बढ़ता ही जा रहा है और तो और इसके लिए विशेष बार भी लगाए जाते हैं । हर कोई अपनी हैसियत के हिसाब से इसका इंतज़ाम करता है। अब तो माध्यम वर्ग की शादियों में भी आपको शराब और बियर के स्टाल देखने को मिल जाएंगे। लेकिन आलीशान या महंगी शादियों के तो क्या कहने, इसी का फायदा उठाने के लिए दुनिया भर की बियर  कंपनियां भारत के इस बाजार पर नज़रें गड़ाए हुए हैं। पिछले साल करीब 40 शादियों में एनहाइजर-बश इनबेव के बीयर ब्रांड- स्टेला अर्टोइस और होईगार्डेन के स्टॉल लगे थे।

इन दोनों ब्रांड की वीकेंड के दौरान लोकप्रिय बार और पब में काफी मांग रहती है, लेकिन दुनिया की सबसे बड़ी ब्रुअर एनहाइजर-बश इनबेव अब भारतीय शादियों में अपने बीयर ब्रांड के स्टॉल नियमित तौर पर देखना चाहती है।

बडवाइजर ब्रांड ऐसी चाहत रखने वाली अकेली कंपनी नहीं है। देश की सबसे बड़ी शराब कंपनी यूएसएल और यहां तक कि जीस्ट, बीरा और अरबॉर ब्रुइंग जैसी क्राफ्ट बीयर कंपनियां के स्टॉल तेजी से महंगी शादियों में देखे जा रहे हैं। इन शादियों में आमतौर पर शैंपेन, कॉकटेल और शराब के भव्य बार होते हैं। एबी इनबेव के साउथ एशिया में मार्केटिंग वाइस प्रेसिडेंट कार्तिकेय शर्मा ने बताया, ‘पहले शादियों की जिम्मेदारी घर के बड़ों पर होती थी। अब युवा पीढ़ी का दखल इसमें दखल ज्यादा दिख रहा है। वे अपनी पसंद के मुताबिक इनमें चीजें रख रहे हैं। उनकी बीयर में भी उतनी ही दिलचस्पी है, जितनी शैंपेन और व्हिस्की की क्वॉलिटी पर।’ अक्टूबर से शुरू हो रहे शादियों के सीजन को लेकर इनबेव ने अभी से अपने बीयर स्टॉक जुटाना शुरू कर दिया है।

चीयर्स  डेस्क

loading...
Close
Close