बिहार में हरियाणवी शराब की सप्लाई वाया यूपी

हरियाणा की शराब की तस्करी रुकने का नाम नहीं ले रही है। यूपी में हरियाणा की शराब की खपत तो पहले से ही है। जब से बिहार में शराब बंदी लागू हुई है तब से हरियाणवी शराब को बिहार पहुंचाने का रूट भी यूपी ही बना हुआ है। लखनऊ में पिछले करीब एक साल में दो दर्जन से अधिक बार जितनी भी शराब पकड़ी गई है वह सब हरियाणा की थी और बिहार जा रही थी। शुक्रवार को भी लखनऊ में दो लोगों को एक टाटा सूमो के साथ गिरफ्तार किया गया। इस गाड़ी में अंग्रेजी शराब की 540 बोतलें बरामद की गईं। इस खेप की कुल लागत करीब पांच लाख रुपए है। पूछताछ में पता चला कि जो दो लोग इस मामले में आरोपी बनाए गए हैं, वे हरियाणा से गाड़ी में शराब भर कर वाया यूपी बिहार में सप्लाई करते हैं।

शराब में मिलावट का खेल जारी, पुलिस टीम पर हमला

पुलिस के अनुसार इस तरह की शराब को हरियाणा से सीधे ये लोग यमुना एक्सप्रेस वे के रास्ते ले आते हैं और यहां से सीधे सड़क मार्ग से बिहार पहुंचा देते हैं। इन लोगों ने बताया कि हरियाणा में शराब के दाम यूपी के दामों से करीब 20 फीसदी से भी कम हैं। इसलिए वहां से शराब लाने और बिहार में बेचने पर अधिक कमाई हो जाती है। इन लोगों ने बताया कि हरियाणा की शराब की एक बोतल को यूपी में बेचने पर प्रति बोतल 25-30 रुपए और बिहार में बेचने पर 50-60 रुपए प्रति बोतल की कमाई हो जाती है। एक कार में पांच छह सौ बोतलें बड़े आराम से आ जाती हैं।

अभी भी नहीं टूट पाया है शराब का सिंडीकेट

पुलिस को पूछताछ में पता चला कि हरियाणा से शराब लाकर बिहार और यूपी में सप्लाई करने के लिए इसी प्रकार के करीब 100 गैंग चल रहे हैं जो महीने में एक दो बार इस तरह की सप्लाई करते हैं। इन लोगों ने पुलिस को बताया कि बिहार में शराब बंदी के बावजूद शराब पीने वाले लोगों की संख्या बहुत अधिक है। वहां पर शराब की सप्लाई नियमित रूप से की जाती है।

नई आबकारी नीति आई तो बिकने लगी गुमटियों में शराब

यूपी से सटे बिहार के जनपदों में जो शराब सप्लाई होती है, वह यूपी की ही होती है क्योंकि उन स्थानों पर ट्रांसपोर्टेशन ज्यादा नहीं होता है। लेकिन यूपी सीमा से दूर जितने भी जिले हैं वहां पर हरियाणवी शराब ही सप्लाई की जाती है क्योंकि इस शराब के दाम कम होते हैं और ट्रांसपोर्टेशन मिलाकर भी यूपी की शराब से कम ही पड़ते हैं। इन इलाकों में जितने दामों में यूपी की सरकारी दुकानों से शराब मिलती है लगभग उन्हीें दामों में शराब सप्लाई की जाती है।
करीब चार माह पहले लखनऊ में ही पूरा एक ट्रक पकड़ा गया था जो बिहार ले जाई जा रही शराब से लदा था। यह शराब भी हरियाणा से ही लाई जा रही थी। छोटी गाड़ियों से शराब की सप्लाई तो बराबर जारी रहती है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close