बिहार में अवैध शराब की चलती-फिरती दुकान

बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब पीने व रखने पर मुकदमा भी हो रहा है। कई को सजा भी हो चुकी है। परंतु इस धंधे में शामिल तस्कर रोज नई तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं। स्थिति यह है कि अवैध शराब की बिक्री के लिए कार में ही दुकान सजी रहती है। ऑर्डर मिलते ही शराब घरों तक उपलब्ध करा दी जाती है। खरीद से तीन गुणा अधिक तक मुनाफा होने के कारण तस्कर इस धंधे से मालामाल हो रहे हैं।

सहरसा में सदर थाना पुलिस ने कुछ दिन पहले शहर के कुंवर टोला से एक कार जब्त की। कार में कुछ बंद व कुछ खुले हुए कार्टन में विभिन्न ब्रांड की शराब थी। कार देखने से काफी पुरानी लग रही थी और नंबर भी बिहार से बाहर का था। नंबर ऐसा था कि कार मालिक की पहचान भी नंबर के आधार पर करना मुश्किल था। संभावना यह जताई जा रही है कि कार में शराब लोड कर उसकी आपूर्ति घरों के समीप जाकर कर दी जाती थी।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close