बिहार पुलिस ही लगा रही शराबबंदी को पलीता

मधेपुरा जिले से एक ऐसी खबर आ रही है जहां पुलिस और शराब कारोबारी मिलकर काम करते हैं और वो भी ऐसा काम जो पुलिस वालों के लिए पाप है, लेकिन मधेपुरा की पुलिस धड़ल्ले से इस काम को अंजाम दे रही है। साथ ही डीजीपी और नीतीश सरकार के आँखों में धूल झोकने का काम रही है।

बता दे की मधेपुरा पुलिस की कारगुजारी बड़ा निराली है, जहां एक तरफ बिहार सरकार शराब बंदी को लेकर ढिंढोरा पीटती है तो वहीं दूसरी तरफ आलमनगर थाना के थानाध्यक्ष शराब कारोबारी का एफआईआर ही गायब कर देते हैं। यह मामला पुराना बताया जा रहा है, जहां गस्ती के दौरान सब इस्पेक्टर अमित कुमार हिमांशु कुर्मी टोला में एक फूस की झोपडी में छापेमारी करते हैं और वहां से एक शराब कारोबारी को बारह पाउच और  6 लीटर देशी शराब के साथ गिरफ्तार करते हैं, लेकिन उसी सब इंस्पेक्टर के बयान पर  विभिन्न धाराओं में केस न. 264 /19 दर्ज किया जाता है लेकिन आरोपी को जेल भेजने की जगह छोड़ दिया गया फिर इस केस नंबर पर दूसरा केस महिला के यौन उत्पीड़न का दर्ज कर लिया जाता है।

वहीं इस मामले को लेकर मधेपुरा के राजद विधायक पुलिस के इस कारनामे पर सीधे सरकार पर निशाना साधते हुए एसपी संजय कुमार से जाँच कर कार्रवाई की मांग की है। वहीं लोगों ने पुलिस की इस बात पर हैरानी जताई है और पुलिस पर शराब माफियाओं के साथ सांठ गाँठ कर काम करने का आरोप लगाया है।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close