बंद होंगी प्लास्टिक की बोतलें ?

प्लास्टिक की थैलियों पर प्रतिबन्ध के बाद लगता है सरकार अब पीने के पानी में प्रयुक्त होने वाली प्लास्टिक की बोतलों पर भी प्रतिबन्ध लगाने जा रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा एक बार प्रयोग होने वाले प्लास्टिक के उत्पादों को खत्म किये जाने के आह्वान के बाद सरकार बाजार से प्लास्टिक की पेयजल बोतलों को पूरी तरह से हटाने को लेकर गंभीर है और केन्द्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्रालय ने इस दिशा में प्रयास भी शुरू कर दिये हैं। आज इस संबध में एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई गई है जिसमें बोतल निर्माताओं को भी आमंत्रित किया गया है। इस बैठक में पानी भरी प्लास्टिक की बोतलों को लेकर निर्णायक फैसला किये जाने की उम्मीद की जा रही है।

दुनिया भर में प्लास्टिक के पर्यावरणीय खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश में एक बार प्रयोग किये जाने वाले प्लास्टिक के उत्पादों को खत्म करने का आह्वान कर चुके हैं। प्रधानमंत्री की इस घोषणा के बाद से ही केन्द्र सरकार के विभिन्न मंत्रालय अपने अपने स्तर पर इस दिशा में काम कर रहे हैं लेकिन खाद्य व पेय उत्पादों की पैकिंग के लिये जिस तरह बड़े पैमाने पर प्लास्टिक के डिब्बे, बोतलें व अन्य उत्पाद प्रयोग किये जा रहे हैं उसे देखते हुए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के सामने इस तरह के उत्पादों को प्रतिबंधित करना बड़ी चुनौती है। केन्द्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान ने इस दिशा में पहल करते हुए मंत्रालय से जुडे सभी कार्यालयों में प्लास्टिक की पानी की बोतलों के प्रयोग पर प्रभावी प्रतिबंध लगा दिया है। यही नहीं प्रतिबंध लगाने के बाद उन्होंने स्वयं मंत्रालय के कई कमरों का निरीक्षण कर इस बात का जायजा लिया कि कहीं प्लास्टिक की बोतलों का प्रयोग तो नहीं हो रहा है।

दरअसल प्लास्टिक का चलन पिछले कुछ वर्षो में इस तेजी से बढ़ा है कि प्लास्टिक आम व्यक्ति के जीवन का हिस्सा बन गया है। घरों में रोजाना प्रयोग किये जाने वाली दर्जनों वस्तुएं प्लास्टिक की हैं। इन उत्पादों से उतना खतरा नहीं है जितना खतरा पेयजल के लिये प्रयोग होने वाली प्लास्टिक की बोतलों तथा प्लास्टिक के गिलासों से है। रोजाना इस तरह की करोड़ों बोतलों व गिलासों का प्रयोग होता है जिन्हें प्रयोग के बाद फेंक दिया जाता है यही कारण है कि मंत्रालय सर्वप्रथम पेयजल के लिये प्रयुक्त होने वाली प्लास्टिक की बोतलों के विकल्प पर ही काम कर रहा है। केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने आज इस संबध में एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है जिसमें प्लास्टिक की बोतलें बनाने वाले निर्माताओं, पर्यावरणविदों तथा विभिन्न विभागों के अधिकारियों को भी आमंत्रित किया गया है। बैठक में आमंत्रित सभी लोगों को कहा गया है कि वह बैठक में प्लास्टिक की बोतलों का विकल्प पेश करें।

प्लास्टिक की पेयजल बोतलों को बाजार से हटाया जायेगा इसे लेकर तो सरकार की मंशा स्पष्ट है लेकिन आज होने वाली बैठक में इसे लेकर कोई अंतिम निर्णय लिये जाने की संभावना कम दिखाई दे रही है क्योंकि पेयजल लोगों के लिये मूलभूत आवश्यकता है साथ ही अभी बोतलों का कोई विकल्प मौजूद नहीं है।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close