पांच सिगरेट से बेहतर है एक बोतल शराब !

शराब पीने वालों के लिए अच्छी खबर है। एक सप्ताह में एक बोतल यानी 750 मिलीलीटर शराब पीने से जितना खतरा कैंसर के होने का होता है, उतना ही खतरा पांच सिगरेट पीने से होता है। महिलाओं को इतना ही खतरा एक सप्ताह में दस सिगरेट पीने से होता है जितना पुरुषों को पांच सिगरेट से। यानी कि पांच सिगरेट पीने से बेहतर है एक बोतल शराब पीना। इसका ये मतलब भी नहीं निकालना चाहिए कि सिगरेट छोड़कर शराब पी जाए। ये बातें हाल ही में एक अध्ययन में सामने आई हैं।

यह भी पढ़ें-  शराब और सराब पर छिड़ी राजनीतिक बहस !

शराब के मुकाबले सिगरेट से कैंसर का खतरा अधिक होता है। लेकिन मात्रा के अुनसार सिगरेट और शराब का अनुपातिक नुकसान इस द इंस्टीटयूट ऑफ़ कैंसर रिसर्च लंदन के एक अध्ययन में सामने आया है। ये अध्ययन बताता है कि शराब के मुकाबले सिगरेट पीना कैंसर के लिए अधिक खतरनाक है। इस शोध के मुताबिक जब सेहत ठीक नहीं हो तो पीने की कोई भी मात्रा सुरक्षित नहीं होती। यानी एक पेग भी नुकसान कर सकता है। इसीलिए ये कहना कि कम पीने वाले कैंसर से सुरक्षित हैं, ये बात ठीक नहीं है। शराब पीने से महिलाओं में ब्रेस्ट और पुरुषों में पेट और लिवर के कैंसर के खतरे बढ़ जाते हैं।

यह भी पढ़ें- बिहार की शराबबंदी से यूपी की मौज

किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ के डा. प्रशांत शुक्ला का इस सम्बंध में कहना है कि भारत जैसे देश में या अन्य देशों जहां प्रदूषण की समस्या दिन पर दिन विकराल होती जा रही है, वहां सिगरेट पीना और अधिक नुकसानदायक है। उनके अनुसार पहले से ही फेफड़े इतना प्रदूषण अपने अंदर भर चुके होते हैं, उसके बाद सिगरेट का धुआं उन्हें और बीमार कर सकता है। शराब चूंकि पेय पदार्थ है, और अगर इसकी क्वालिटी खराब नहीं है, तो निर्धारित मात्रा में लेने पर नुकसान सिगरेट की अपेक्षा बहुत कम होता है।

यह भी पढ़ें- पीकर गाड़ी चलाई तो 40,000 तक जुर्माना, डीएल भी गया

होम्योपैथी के मशहूर डाॅक्टर समरजीत श्रीवास्तव भी सिगरेट की अपेक्षा शराब को कम नुकसानदायक मानते हैं। उनका कहना है कि शराब अगर स्प्रिट आधारित नहीं है तो तो बहुत ही कम नुकसान करती है। स्प्रिट आधारित शराब भी कम मात्रा में कम ही नुकसान करती है। लेकिन सिगरेट तो घोषित रूप से शरीर को नुकसान पहुंचाने का ज्ञात कारण है ही।

यह भी पढ़ें- 65 रुपए वाली कासबर्ग बियर मिलती है 190 रुपए में !

हालांकि इस अध्ययन में कैंसर के अलावा अन्य बीमारियों के बारे में कोई बात नहीं की गई है। कैंसर होने के अन्य कारणों पर भी कम ही प्रकाश डाला गया है, जीन, खान पान, पर्यावरण, जीवन शैली आदि पर कोई बात नहीं की गई है। इस अध्ययन का केवल एक ही निश्कर्ष है, और वह है कि सिगरेट पीने की लत से पूरी तरह से निजात हासिल करना।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close