दशहरा,दिवाली में नहीं मिल पाएगा पीने का पानी !

एक तरफे देश के कई हिस्सों में भारी बारिश और बाढ़ से हहाकार मचा हुआ है, वहीं दूसरी और गाजियाबाद और नोएडा  के लोगों को पानी की किल्लत झेलनी पड़ सकती है। क्योंकि सिंचाई विभाग द्वारा नहर की सफाई किए जाने के कारण 4 और 5 की मध्यरात्रि को गंगाजल की सप्लाई पूरी तरह बंद कर दी जाएगी। जिसके बाद लोगों को पीने के लिए गंगाजल मुहैया नहीं हो पाएगा। जिसकी वजह से दशहरा, दिवाली पर पीने के पानी की भी समस्या हो सकती है।

आपको बताते चलें कि बरसात के मौसम के तुरंत बाद ही हर साल सिंचाई विभाग द्वारा गंग नहर की सप्लाई की जाती है। जिसके चलते गंग नहर का पानी पूरी तरह बंद कर दिया जाता है। नहर की सफाई के बाद ही नहर में दोबारा पानी छोड़ा जाता है। इस दौरान गंगाजल तैयार करने वाले प्लांट को भी पानी नहीं मिल पाता। इसलिए जिन इलाकों में गंगाजल की सप्लाई की जा रही है, उन इलाकों में रहने वाले लोगों को भी इस दौरान पीने का पानी उपलब्ध नहीं हो पाता है।.

इस बार भी 4 अक्टूबर और 5 अक्टूबर की मध्यरात्रि को गंगाजल की सप्लाई पूरी तरह बंद कर दी जाएगी। उसके बाद दोबारा से 26 अक्टूबर और 27 अक्टूबर की मध्य रात्रि तक दोबारा सप्लाई बहाल की जाएगी। इस साल 27 अक्टूबर की दिवाली है यानी दिवाली पर भी लोगों को गंगाजल उपलब्ध नहीं हो पाएगा। हालांकि इस दौरान गाजियाबाद नगर निगम जीडीए और नोएडा डेवलपमेंट अथॉरिटी द्वारा लोगों को पीने के पानी की वैकल्पिक व्यवस्था करनी होती है। इस बार भी नगर निगम, जीडीए और नोएडा अथॉरिटी द्वारा ही वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी।

इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए गाजियाबाद के प्रताप विहार स्थित गंगाजल वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के प्रोजेक्ट मैनेजर शुभेन्द्र चौधरी ने बताया कि हर साल की भांति इस बार भी गंग नहर की सफाई की जा रही है। जिसके चलते प्लांट को पानी पूरी तरह उपलब्ध नहीं हो पाएगा। जिसके कारण गंगाजल की सप्लाई 4 अक्टूबर और 5 अक्टूबर की मध्य रात्रि को बंद कर दी जाएगी। उसके बाद 26 अक्टूबर और 27 अक्टूबर की मध्यरात्रि दोबारा से गंगाजल की सप्लाई सुचारू रूप से की जाएगी।

उन्होंने बताया कि गाजियाबाद के प्रताप विहार इलाके में कुल 150 क्यूसेक गंगाजल तैयार किया जाता है। यह सबसे पहला 50 क्यूसेक गंगाजल तैयार करने वाला वाटर ट्रीटमेंट प्लांट है। जिसमें से 20 क्यूसेक नोएडा और 23.1 क्यूसेक गाजियाबाद नगर निगम की कॉलोनियों में और 6.9 क्यूसेक जीडीए की कॉलोनी के लिए सप्लाई किया जाता है।

प्रताप विहार स्थित ही एक दूसरा प्लांट है जिसमें कुल 100 क्यूसेक गंगाजल तैयार किया जाता है जिसमें से 80 क्यूसेक नोएडा और 15 क्यूसेक जीडीए और 5 क्यूसेक आवास विकास की कॉलोनी में सप्लाई किया जाता है । लेकिन इस दौरान सभी इलाकों की गंगाजल सप्लाई बाधित रहेगी।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close