जानिए जूस और स्मूदी में से कौन सा है बेहतर ड्रिंक

ताजे और पोषणयुक्त फलों से बने जूस का नियमित सेवन करना चाहिए इसकी सलाह न्यूट्रिशनिस्ट भी देते हैं। वहीं हरे और पत्तेदार सब्जियों के अलावा फलों को मिलाकर स्मूदी बनाया जाता है। लेकिन अगर दोनों की तुलना की जाये तो शायद यह बता पाना मुश्किल होगा कि कौन अधिक फायदेमंद और सेहतमंद है। जूस हो या स्मूदी दोनों के अपने फायदे और नुकसान हैं। इस लेख में विस्तार से जानते हैं कौन सा पेय अधिक फायदेमंद और स्वास्यवर्द्धक है।

स्मूदी के फायदे

स्मूदी को संपूर्ण आहार माना जा सकता है क्योंकि इसमें ताजे फलों और हरी सब्जियों का समावेश होता है। इसके अलावा इसका यह फायदा भी है कि इसमें आप अपनी पसंद के अनुसार विटामिन और दूसरे पौष्टिक पदार्थ भी मिला सकते हैं। इसमें दही एवोकैडो आलमंड बटर आदि मिलाकर इसे और अधिक पौष्टिक बना सकते हैं। इसमें अपनी पसंद का फ्लेवर भी मिला सकते हैं। इसके सेवन से आपको शरीर के लिए जरूरी सभी पौष्टिक चीजें मिल सकती हैं।

स्मूदी के नुकसान

जो चीजें अधिक फायदेमंद होती हैं उनका सेवन सही तरीके से न किया जाये तो वे नुकसानदेह भी हो सकती हैं। स्मूदी एक तरफ फायदेमंद तो है लेकिन इसका सेवन अधिक किया जाये तो मोटापे का कारण भी बन सकता है। कई बार लोग वजन कम करने के लिए कई तरह की स्मूदी रेसिपी का प्रयोग करते हैं इससे वजन कम तो हो जाता है लेकिन यह आपको कमजोर भी कर सकता है। स्मूदी शुगरयुक्त फ्रूट और शुगर से भरपूर होते हैं जिसके सेवन से शरीर में इन्सुलिन का स्तर बढ़ जाता है। जब आप ब्रेकफास्ट में स्मूदी पीते हैं तो आपका ब्लड शुगर लेवल अचानक से बढ़ जाता है और आपकी एनर्जी जल्दी जल्दी ख़त्म होने लगती है इससे थकान और कमजोरी का एहसास होने लगता है।

जूस के फायदे

फलों का जूस भी फायदेमंद होता है जूस का फायदा यह है कि एक जूस में आप कई फलों को एक साथ मिला सकते हैं। फलों में शरीर के लिए जरूरी सभी विटामिन और मिनरल्स होते हैं। जूस का सेवन करके शरीर के लिए जरूरी न्यूट्रीशन की पूर्ति की जा सकती है। सेब में अदरक को मिलाकर रोज पिया जाये सामान्य और खतरनाक बीमारियां दूर रहती हैं। एथलीट रोजमर्रा की कैलोरी की पूर्ति के लिए रोज फलों के साथ जूस का सेवन करते हैं। तो रोज अपनी पसंद के फल का जूस बनायें और उसका सेवन करें।

जूस से नुकसान

वजन घटाना हो या बीमारी का उपचार हो हम जूस का अधिक से अधिक सेवन करने लगते हैं। कुछ लोग तो इतना जूस पीते हैं कि इसके आदी हो जाते हैं लेकिन अगर इसका अधिक सेवन किया जाये तो यह फायदेमंद की बजाय नुकसानदेह भी हो सकता है। कैंब्रिज के मेडिकल रिसर्च काउंसिल ह्यूमन न्यूट्रिशन रिसर्च युनिट की मानें तो फलों के जूस में जिस मात्रा में शुगर मौजूद है वह पेट के लिए बहुत ही नुकसानदेह है। इसलिए अगर जूस में शुगर मिलाकर पी रहे हैं तो यह अधिक नुकसानदेह है। यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कैरोलीना के शोध में फलों के जूस को मोटापा घटाने की जगह बढ़ाने के लिए जिम्मेदार माना गया है।

जूस और स्मूदी दोनों का सेवन सही तरीके से किया जाये तो यह फायदेमंद होती हैं। इनका सेवन किस तरह किया जाये इसके बारे में आप आहार विशेषज्ञ से सलाह ले सकते हैं।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close