जानिए किस रेगिस्तान में ​मिला 48 सौ खरब लीटर पानी का भंडार

बूंद-बूंद पानी को तरसते राजस्थान के थार रेगिस्तान में रहने वाले लोगों के लिए खुशखबरी है। यहां धोरों के नीचे तेल और गैस के साथ-साथ पानी का अथाह भंडार भी हिलोरे मार रहा है। राजस्थान के बाड़मेर जिले में हाल ही हुई एक खोज ने केवल भूगर्भ वैज्ञानिकों को चौंका दिया बल्कि पूरे राजस्थान को खुशियों की सौगात दी है। बाड़मेर के माडपुरा बरवाला में पानी का छोटा सागर मिला है, जिसमें 4 हजार 800 खबर लीटर पानी मौजूद है। पानी का यह भंडार बाड़मेर से जालौर जिले तक फैला हुआ है।

पीने योग्य बनाया जा सकता है यह पानी दिक्कत यह है कि ​रेगिस्तान के भूगर्भ में मौजूद यह पानी खारा है। इसमें लवणीयता अधिक है। अगर सरकार खाड़ी देशों की तर्ज पर इस पानी के उपयोग को मिशन के रूप में ले तो इसे पीने योग्य बनाया जा सकता है। भूवैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह पानी 10 लाख की आबादी की कई साल तक प्यास बुझा सकता है।

कयर्न ने खोज निकाला पानी का खजाना बाड़मेर के भू-वैज्ञानिक अनिल पालीवाल के अनुसार पेट्रो भौतिक डेटा, भूकंपीय सर्वेक्षण और विस्तृत हाइड्रो जियोलॉजिकल जांच के आधार पर केयर्न ऑयल एंड गैस कंपनी ने बाड़मेर बेसिन में थूम्बली जल भंडारों की खोज की है। बाड़मेर जिले के बायतु के पास माडपुरा बरवाला इलाके में मिले इस पानी का फैलाव बायतु, शिव, बाड़मेर, गुड़ामालानी से लेकर सांचौर और कुर्द (जालौर) तक है। ज़मीन की सतह से इसकी गहराई 350 से 1500 मीटर तक है।

पेयजल समस्या का हो सकता है स्थायी समाधान केयर इंडिया एनर्जी के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार जितना अनुमान था उससे कहीं ज्यादा जल का यह भण्डार है। लवणीयता कम करके इसे उपयोग में लिया जाता है तो रेगिस्तान की पेजयल की समस्या का स्थायी समाधान हो जाएगा। तेल कंपनी केयर्न ने जिस उच्च तकनीक से पेट्रोल निकाला है ऐसे ही खाड़ी देशों की उच्च तकनीक को लेकर केन्द्र सरकार का जलशक्ति मंत्रालय प्रयास करें तो बाड़मेर के नाम यह बड़ी उपलब्धि होगी।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close