कन्नौज के लिए अरुणाचल प्रदेश से मंगाई गई थी शराब

सीतापुर से वाया हरदोई होकर कन्नौज जाने वाली शराब मिश्रिख में रिफलिंग के बाद गैरजनपद भेजी जानी थी पर वह पकड़ी गई। क्राइम ब्रांच द्वारा कुछ तस्करों से की गई पूछताछ में पता चला है कि कन्नौज में माल को खपाने के लिए सीतापुर के एक रसूखदार ने डेढ़ करोड़ से अधिक की डील की थी। एसपी का कहना है कि कुछ संदिग्ध पकड़े गए हैं जिनसे पूछताछ की जा रही है। बताते हैं कि इससे पहले भी अरुणाचल प्रदेश से शराब मंगवाकर रामकोट-मिश्रिख इलाके में ले जाई जाती रही है। भूमिगत स्थान पर अरुणाचल प्रदेश की शराब को बोतलों से निकालकर रिफलिंग किया जाता था। नकली हॉलमार्क, ढक्कन और रैपर के सहारे इन्हें नई शीशियों में अवैध शराब के साथ मिलाकर हरदोई, कन्नौज और आसपास के जनपदों में रसूखदार तस्कर सप्लाई करता रहा है। क्राइम ब्रांच द्वारा दो तस्करों से की गई पूछताछ के बाद सामने आए हैं।

पुख्ता जानकारी के बाद जिले के कई स्थानों पर एक साथ दबिश दी गई। एसपी एलआर कुमार का कहना है कि सूचना मिलने के बाद अरुणाचल प्रदेश से लाई गई अंग्रेजी शराब की खेप को बरामद कर कुछ संदिग्धों को पकड़ा गया है। पता चला है कि इस शराब के सहारे शातिर तस्कर नकली शराब की खेप तैयार करउसे दूसरे जनपदों में सप्लाई करते थे। बनाकर सप्लाई होने वाली शराब शरीर और राजस्व दोनों को नुकसान देने वाली थी। जल्द ही मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पहले भी मिला है अवैध शराब का जखीरा

रामकोट के मधवापुर गांव में शराब की दुकान के नीचे ही भूमिगत स्थान पर अरुणाचल की शराब को नकली शराब बनाने में इस्तेमाल किया जा रहा था। कुछ माह पूर्व पुलिस ने भारी मात्रा में शराब बरामद कर नीरज वर्मा, आशू, धनीराम, हरदोई निवासी शराब दुकानदार खुशीराम को जेल भेजा था। इसी इलाके के मुस्तफाबाद में सुनील, गुड्डी देवी और प्रकाश को बड़े खेप के साथ जेल भेजा गया था। नेरी से खीरी जनपद के उचौलिया निवासी यासीन, संजय, आसिफ को करीब 500 लीटर स्प्रिट के साथ पकड़ा गया था, ये अवैध शराब को खपाने में लाई जा रही थी। नगर में नैपालापुर इलाके से रामकोट और महोली के संजय और सुरेश को एक कमरे में बाहर से मंगवाकर रखी गई अंग्रेजी शराब की लाखों की खेप के साथ गिरफ्तार किया गया था।

इसी के करीब नैपाल सिंह महाविद्यालय से पूरी शराब की फैक्ट्री ही पकड़ी गई थी। यहां बाहर से मंगाई गई भारी मात्रा में शराब भी मिली थी। मामले में हरगांव के पूर्व ब्लाक प्रमुख पति अभय सिंह सहित कई अन्य को जेल भेजा गया था। बाद में इन सभी पर गैंगस्टर भी लगाया गया था। शराब के मुख्य डीलर खीरी निवासी सतेन्द्र को तीन माह पूर्व सीओ सिटी योगेन्द्र सिंह द्वारा बड़ी खेप के साथ पकड़ा जा चुका है। हरगांव में शराब डीलर रजनेश जायसवाल, मुकेश जायसवाल के अलावा शेष यादव और सतेन्द्र जेल भेजे जा चुके हैं।

जहरीली शराब माफिया से भी कनेक्शन

बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से हुई दो दर्जन से अधिक मौतों का सौदागर रामपुर मथुरा का सुनील जायसवाल ही था। उस दौरान सीतापुर जिले में भी इसी शराब तस्कर की सप्लाई से तीन मौतें हुई थीं। सीतापुर और बाराबंकी पुलिस ने पचास हजार का इनाम सुनील जायसवाल पर घोषित किया था, तब कहीं जाकर वह पकड़ा गया था। पूछताछ के दौरान उसने सीतापुर के कई रसूखदारों के नाम भी बताए थे।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close