गुजरात में शराबबंदी ?

गुजरात ड्राई स्टेट है और यहां की सरकार का कहना है कि गुजरात में शराब बंदी का कड़ाई से पालन किया जाता है लेकिन यह कानून केवल कागजों पर ही लगता है। यहाँ पर तस्करी द्वारा लाई गई शराब खुलेआम बिकती है। ये कहना है शराबियों से पीड़ित परिवार का। अभी कुछ दिन पहले राजकोट के एक परिवार का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। वीडियो में परिवार पिछले 20 सालों से उनके इलाके में शराब की बिक्री होने के बारे में बता रहा है, और अब हिम्मतनगर के एक गाँव के लोगों ने अपने ही गाँव में हो रही शराब की बिक्री का समय बदलने के लिए विधायक और पुलिस के समक्ष पेशकश की है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, हिम्मतनगर तालुका के सचोदर गांव में कई सालों से शराब बेची जाती है। इस गाँव के लोग शराबियों से इतने तंग आ चुके हैं कि उन्होंने स्थानीय विधायक और पुलिस को लिखित रूप में आवेदन किया है कि हमारे गाँव में शराब की बिक्री होती है, हमें इससे कोई परेशानी नहीं है, लेकिन हमारी विनती केवल इस शराब की बिक्री के समय को बदलने के लिए है। इस तरह के आवेदन का कारण यह है कि गाँव में अधिकांश परिवार किसान और पशुपालक हैं।

इस गाँव के लोगों का कहना है कि गाँव में शराब की बिक्री पाँच बजे शुरू होती है और यह समय गाँव के लोगों के लिए अपने पशुओं को पालने का समय होता है और उस समय महिलाएँ और बेटियाँ शराब‌ियों की यातना के कारण घर से बाहर नहीं निकल सकती। इसीलिए गांव के लोगों ने एक साथ मिलकर शराब बेचने का समय शाम सात बजे करने के लिए विधायक और पुलिस को लिखित में आवेदन किया है।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close