गंदा पानी पीने को मजबूर हैं शहरवासी

मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर में गंदे पानी की समस्या का समाधान करने में नगर निगम पूरी तरह से नाकाम साबित हुआ है। विभिन्न क्षेत्रों में गंदे पानी की समस्या अभी भी बनी हुई है। निगम अधिकारी शहर में साफ पानी सप्लाई का दावा करते हैं, लेकिन हकीकत में हालात कुछ और ही हैं। अलग-अलग क्षेत्रों में सीवर का गंदा पानी नलों में सप्लाई हो रहा है। गोल पहाड़िया क्षेत्र में भी गंदा पानी आ रहा है।

लगभग 6 महीने से शहर में गंदे पानी की समस्या बनी हुई है। इसे दूर करने के लिए नगर निगम ने बड़े-बड़े दावे किए, लेकिन यह सभी धरे रह गए। अभी भी क्षेत्रों में गंदा पानी सप्लाई हो रहा है। शहर में 66 वार्ड हैं और इन वार्डों का कोई न कोई क्षेत्र गंदे पानी की समस्या से जूझ रहा है। गोल पहाडिय़ा क्षेत्र में भी गंदे पानी की समस्या है। तिघरा के पानी की सप्लाई एक दिन छोड़कर की जाती है, लेकिन यह भी गंदा आता है। लंबे समय से यहां गंदे पानी की समस्या है। इसको लेकर लोगों ने शिकायत भी की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होती है। कुछ दिन पानी साफ आने के बाद फिर से गंदा आने लगता है। कॉलोनी निवासी दिनेश पाल ने बताया कि गंदे पानी की समस्या आए दिन शुरू हो जाती है। नलों में से इतना गंदा पानी आता है कि इसे पीना तो दूर नहाने में भी इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। क्षेत्र में लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है इसलिए सभी लोग खरीदकर पानी नहीं पी पाते हैं। मजबूरी में लोगों को यहां वहां से पानी भरकर लाना पड़ता है।

शिकायतों पर नहीं होती सुनवाई

शहरवासियों ने कई बार गंदे पानी को लेकर शिकायत की है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। यहां तक कि लोगों ने सीएम हेल्पलाइन में भी शिकायत की लेकिन उसे भी बिना सुनवाई के ही बंद कर दिया गया। एक ओर जहां कमिश्नर नगर निगम द्वारा शिकायतों को नागरिकों की संतुष्टि के बाद ही बंद करने के निर्देश अधिकारियों को दिए जा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर बिना निराकरण के ही शिकायत अधिकारी बंद कर रहे हैं।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close