केंद्र की रिपोर्ट को दिल्ली सरकार ने बताया झूठा

राजधानी दिल्ली की जनता केवल प्रदूषित हवा ही नहीं बल्कि प्रदूषित पानी से भी त्रस्त है। जी हां, ऐसा हम नहीं बल्कि केंद्र सरकार की ओर से जारी किए गए रिपोर्ट कह रही है। हालांकि दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार द्वारा जारी की गई इस रिपोर्ट का झूठा बता रही है। एक हिंदी अखबार के मुताबिक उन्होंने केंद्र सरकार की रिपोर्ट आने के बाद दिल्ली के बुराड़ी, विश्वास नगर, अशोक विहार और सोनिया विहार में अपने रिपोर्टर भेजे और पाया कि वहां अभी भी गंदे पानी की ही आपूर्ति की जा रही है। अखबार के मुताबिक दिल्ली के कुछ इलाकों में पानी दिखने में तो साफ है लेकिन गंदी बदबू की वजह से उसे पीना बहुत मुश्किल है।

दिल्ली का प्रदूषित पानी पीने की वजह से कुछ लोगों को पेट दर्द की भी शिकायत है। ऐसे लोगों को डॉक्टरों ने बोतलबंद पानी की सलाह दी है। अखबार की रिपोर्ट में सामने आया कि लोग सप्लाई के इस पानी को पीना तो छोड़िए घरेलू कामों के लिए भी इस्तेमाल नहीं कर सकते। दिल्ली के लोगों ने बताया कि पानी की समस्या गर्मियों से लगातार जारी है और अभी तक उन्हें साफ पानी नहीं मिल रहा है। दिल्ली के अशोक नगर की एक नागरिक ने बताया कि दो महीने पहले उनके घर से पानी का सैंपल लिया गया था, उस वक्त काफी गंदा पानी आ रहा था। उन्होंने बताया कि हालात अभी भी खराब है क्योंकि हफ्ते में एक दिन ऐसे ही गंदे पानी की आपूर्ति हो रही है. चिंता की बात ये है कि दिल्ली के कुछ इलाकों में सप्लाई हो रहे पानी में सीवर जैसी बदबू भी आ रही है।

हालांकि, दिल्ली के संगम विहार से आप विधायक और दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष दिनेश मोहनिया ने बताया कि सोनिया विहार में स्थित वॉटर प्लांट आधुनिक तकनीक से चलने वाला प्लांट है। उन्होंने बताया कि सोनिया विहार वॉटर प्लांट में पानी की संपूर्ण सफाई के बाद ही उसकी सप्लाई की जाती है। दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष के मुताबिक पानी में यदि प्रदूषित तत्वों का एक भी प्रतिशत हिस्सा पाया जाता है तो उसकी सप्लाई नहीं की जाती है। अब यहां एक बड़ा सवाल ये खड़ा होता है कि जब दिल्ली सरकार सभी मानकों का पालन करने के बाद पानी की सप्लाई कर रही है तो लोगों के पास गंदा और बदबूदार पानी कैसे पहुंच रहा है।
चीयर्स डेस्क 
loading...
Close
Close