कावा को पीते ही जीभ हो जाती है ‘सुन्न’

कावा एक पारंपरिक ड्रिंक है जो की पूरे पैसिफिक में बहुत ही लोकप्रिय है और साथ ही इसे पवित्र भी माना गया है। पारंपरिक रूप से वानुआतु में चीफ या प्रमुख स्थानीय मामलों की चर्चा करते हुए इसे पीया करते थे। इसे नारियल के खोल में पिए जाने की परंपरा थी।   वानुआतु की राजधानी पोर्ट विला में लोगों के बीच ये काफी लोकप्रिय हो रही है। जहां एक ओर लोग इससे सेहत पर पड़ने वाले असर को लेकर चिंता कर रहें हैं, वहीं कहा जा रहा है कि इसके बहुत से आर्थिक मायने भी हो सकते हैं।

वानुआतु प्रशांत महासागर के सैकड़ों मील में बिखरा हुआ एक द्वीप राष्ट्र है। कावा के बारे में दुनियाभर में जाने-माने विशेषज्ञ डॉ. विंसेंट लेबॉट ने कहा, ‘आपको इसे एक ही बार में पूरा पीना होगा, इसे पीते ही आपका मुंह और ज़बान सुन्न से होने लगेंगे। ‘ जब उनसे पूछा गया कि उसके बाद क्या होगा तो वे हंसकर बोले, ‘ज़्यादा कुछ नहीं।’ डॉ. विंसेंट मूल रूप से फ्रांस के रहने वाले हैं लेकिन अब दशकों से वह वानुआतु में रहते हैं।

 पोर्ट विला एक बार है जिसे लास्ट फ्लाइट के नाम से जाना जाता है। यह देश के मुख्य हवाई अड्डे के ठीक पीछे बना हुआ है।  यह बार कामकाजी लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय है क्योंकि यहां बहुत ही शांत बियर गार्डेन जैसा वातावरण रहता है। बार के सामने वाले गेट के ठीक ऊपर एक लाइट लगी हुई है और अगर लाइट जल रही है तो इसका मतलब है कि बार में कावा है और जब दिनभर का सीमित स्टॉक ख़त्म हो जाता है, तो यह लाइट बंद हो जाती है।

इस बार में कोई और शराब नहीं मिलती है सिर्फ़ और सिर्फ़ कावा ही मिलता है। इसे पीनेवाले या इसका समर्थन करने वालों का कहना है कि इसे पीने से बैचैनी कम होती है और ये नींद न आने की परेशानी में भी मदद करती है। यह भी कहा जाता है कि इसे पीने से हल्के से उत्साह का अनुभव भी किया जा सकता है। वहीं इसके आलोचकों का कहना है कि यह बेहद ख़तरनाक है और यूरोपीय संघ में प्रतिबंधित भी है।

लेकिन हाल ही में इसका इस्तेमाल काफ़ी बढ़ गया है। वानुआतु में अब ज़्यादातर परिवार भी कावा से परिचित हैं और इसे अपने घरों के बाहर उगाते भी हैं। हालांकि कभी महिलाओं के लिए इसे पीना मना था लेकिन आज के समय में राजधानी पोर्ट विला में यह बहुत आम हो गयी है। हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ महिलाएं अभी भी इससे परहेज़ करती हैं।

यह ड्रिंक दुनियाभर में लोकप्रिय हो सकती है और वानूआतू को आर्थिक रूप में भी मदद कर सकती है।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close