‘कालापानी’ में फैल रहा है चर्म रोग

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के विभिन्न इलाकों से कालापानी पंचायत में शिफ्ट किए गए लोगों के लिए यह कालेपानी की सजा हो गई है। दूषित जल और साफ-सफाई के अभाव में यहां के बाशिंदे जिंदगी काटनेे को मजबूर हैं। प्रदूषित पानी पीने से कई लोगों को चर्म रोग हो गया है तो कुछ लोग अक्सर मलेरिया, वायरल फीवर और टाइफाइड आदि बीमारी से जूझते रहते हैं। लगभग सात साल पहले मंत्रालय के आसपास और सुभाष नगर रेलवे फाटक से लगभग 200 परिवारों को कोलार रोड स्थित कालापानी पंचायत में शिफ्ट किया गया था। लेकिन शरहवासियों का आरोप है कि जिला प्रशासन ने बस्ती में अब तक बुनियादी सुविधाएं मुहैया नहीं कराई हैं। यहां पीने का साफ पानी तक उपलब्ध नहीं है।

ऐसे में सीवेज और सफाई का अंदाजा लगाया जा सकता है। लोग गंदगी के बीच रहने को मजबूर हैं। इस कारण इन इलाकों के लोगों को चर्म रोग हो गया है। यहां बिजली, पानी, शौचालय और सीवेज का कोई इंतजाम नहीं हैं। कुछ शौचालय बनाए गए थे, लेकिन देखरेख के अभाव में जर्जर हो गए। बस्ती में पानी की निकासी न होने से चारों ओर गंदा पानी भरा है। प्रत्येक घर में कोई न कोई बीमार है। बस्ती वालों ने बताया कि उन्हें शिफ्ट करने के बाद किसी तरह की कोई मदद नहीं की गई। हाल ही एक संस्था ने सफाई, स्वास्थ्य और शिक्षा को लेकर सर्वे किया था। इसमें पता चला कि बस्ती के ज्यादातर लोग बीमारियों से पीड़ित हैं।

हर तरफ समस्या

बस्ती के लोगों ने बताया कि जहा हम रहते थे वहां पीने के पानी की लाइन बिछाने के लिए काम चलना था इसलिए हमे वहा से यहाँ शिफ्ट  किया।  और यहाँ  हमारे पास ही पीने का पानी नहीं है।  यहाँ पर साफ सफाई न होने से करीब 125 से अधिक लोग चर्म रोग से पीड़ित हैं।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close