एनजीटी ने पूछा, मानसी गंगा का पानी पीने योग्य है?

गिरिराज परिक्रमा संरक्षण संस्थान द्वारा दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए आज एनजीटी ने सबसे पहले उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण परिषद के अधिवक्ता से मानसी गंगा  के पानी की र‍िपोर्ट की बावत सवाल क‍िए ।

कोर्ट ने उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण परिषद के अधिवक्ता प्रदीप मिश्रा से पूछा कि क्या मानसी गंगा का पानी पीने योग्य है ? इस सवाल पर प्रदूषण नियंत्रण परिषद की ओर से दाखिल रिपोर्ट का हवाला देते हुए परिषद के अधिवक्ता ने कहा कि मानसी गंगा का पानी पीने योग्य नहीं है, लेकिन सीवर का पानी आम दिनों में मानसी गंगा में नहीं जाता है जबक‍ि निरीक्षण के दौरान गोवर्धन निवासी हरिओम शर्मा ने परिषद के अधिकारियों को बताया था कि बरसात के दिनों में पानी का ओवर फ्लो होने के कारण सीवर का पानी भी मानसी गंगा में चला जाता है ।

परिषद के अधिवक्ता के ऐसा कहने पर याचिकाकर्ता के अधिवक्ता सार्थक चतुर्वेदी ने विरोध करते हुए कहा कि ऐसा नहीं है क्यों कि उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण परिषद की रिपोर्ट के अनुसार कोलीफॉर्म की मात्रा बहुत अधिक है, जिससे यह साफ प्रतीत होता है कि आम दिनों में भी सीवर का पानी मानसी गंगा में जाता है।

न्यायधीश रघुवेन्द्र सिंह राठौर व सत्यवान सिंह गब्र्याल ने सहमति जताते हुए प्रदूषण नियंत्रण परिषद की रिपोर्ट से असंतुष्टता जताते हुए याचिकाकर्ता के अधिवक्ता सार्थक चतुर्वेदी को इस पर एक विस्तृत जवाब दाखिल करने को कहा ।

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close