उन्नाव में अवैध शराब भी है चुनावी मुद्दा

उन्नाव, कानपुर और लखनऊ के बीच का शहर। कभी चमड़ा उद्योग के लिए विख्यात रहा है। यहां शराब भी एक चुनावी मुददा है। उन्नाव में कई बड़े नकली शराब कांड हो चुके हैं जिनमें दर्जनों लोगों की मौत हो चुकी है। पुलिस की धरपकड़ के बावजूद गांवों में शराब बनाने का काम बंद नहीं हुआ है बल्कि दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है।

ये भी पढ़ें- क्यों होता है हैंगओवर और कैसे उतरता है

इसी संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है मोहान, जो देश को ‘इन्कलाब जिंदाबाद‘ का नारा देने वाले हसरत मोहानी के नाम पर बनी विधानसभा क्षेत्र आम की खेती के लिए मशहूर है। आदमपुर बरेठी गांव के किसान राजकिशोर ने 30 बीघे जमीन पर आम के बाग लगाए हैं। तपाक से बोले कि किसान को सही बाजार नहीं मिल रहा है। खेती-किसानी में मेहनत बहुत होती है। पैदावार अच्छी होती है, मगर दाम अच्छे नहीं मिलते। आम के किसानों को कुछ राहत जरूर दी गई है, पर कई काम अभी भी किए जाने हैं। यहां एक अच्छी मंडी की जरूरत है।.

ये भी पढ़ें- ट्रेनों से होने लगा चुनाव के लिए शराब का अवागमन

इसी संसदीय क्षेत्र में पड़ता है, लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस से सटे बांगरमऊ विधानसभा क्षेत्र, जहां के गंज मुरादाबाद के रहने वाले संतोष ने पान की दुकान खोल रखी है। यहां कुछ लोग चुनावी चर्चा कर रहे थे। नेताओं के हार-जीत का आकलन हो रहा था। संतोष बोले, एक्सप्रेस-वे बनने के बाद आसपास के लोगों को बहुत फायदा नहीं हुआ। अगर मोटरसाइकिल लेकर एक्सप्रेस-वे पर चढ़ जाएं, तो रसीद कट जाती है। लखनऊ जाने के लिए 60 रुपये देने पड़ते हैं। इसके अलावा इस एक्सप्रेस वे पर शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों को पकड़ने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। हादसे इसी कारण और अधिक होते हैं। एक तो शराब का नशा और ऊपर से तेज रफ्तार।

ये भी पढ़ें- वोटिंग से पूर्व की रात, कथित रूप से शराब बंटने की रात !

भगवंतनगर विधानसभा क्षेत्र के रहने वाले मुन्ना सिंह कहते हैं कि डौंडियाखेड़ा साल 2013-14 में सोने की खुदाई को लेकर सुर्खियों में रहा था। दुनिया भर के मीडिया की नजर तब डौंडियाखेड़ा पर थी। खुदाई में सोना तो नहीं मिला, पर उसके बाद यहां से लोगों की नजर हट गई। इसी मंदिर के बाहर चाय की दुकान लगाने वाले रिंकू ने कहा, असरेंदा, दिर्गपालगंज, बठुआशाहपुर, रंजितखेड़ा, जनवारनखेड़ा समेत तमाम गांवों में अवैध शराब बनती है। इससे युवा नशे की चपेट में आ रहे हैं। पुलिस इस पर अंकुश नहीं लगा पा रही है। पुलिस की मिलीभगत से यह अवैध कारोबार खूब किया जा रहा है। नदी के किनारे इसका जाल बिछा है। सांसद उसी को चुनेंगे, जो इस इलाके से शराब के अवैध कारोबार को बंद कराएगा।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close