आईआरसीटीसी लगाएगा बोतलबंद पानी के नौ नए प्लांट

रेलयात्रियों को बोतलबंद पानी मुहैया कराने के लिए आईआरसीटीसी अधिक दिनों तक बाजार पर निर्भर नहीं रहेगा। आईआरसीटीसी बोतलबंद पानी रेलनीर से रेलयात्रियों की शत-प्रतिशत मांग पूरी करेगा। मौजूदा समय में आईआरसीटीसी अपने दस प्लांटों लिए करीब 11 लाख लीटर बोतलबंद रेलनीर की आपूर्ति कर रहा है।

लेकिन जैसे उसके नये नौ प्लांटों से उत्पादन शुरू हो जाएगा वैसे ही मांग के अनुरूप रेलनीर की शत-प्रतिशत आपूर्ति होने लगेगी। गौरतलब है कि रेलवे स्टेशन और ट्रेनों में रेलनीर के अलावा कई तरह की बोतलबंद पानी बिक्री वेंडर के जरिये की जाती है। इनमें हर एक बोतलबंद पानी का मानक अलग-अलग होता है। अधिक मुनाफे के फेर में वेंडर रेलनीर की उपलब्धता कम होने का बहाना कर दूसरी बोतलबंद पानी बेच देते हैं।

अनिवार्यता यह है कि जब पहले बोतलबंद रेलनीर पानी ही रेलयात्रियों के उपलब्ध कराया जाएगा। रेलवे स्टेशन के स्टॉलों और ट्रेनों में रोजाना करीब 19 लाख लीटर बोतलबंद पानी की मांग रहती है। इस मांग की पूर्ति के लिए आईआरसीटीसी दस रेलनीर प्लांटों के जरिये रोजाना करीब 11 लाख लीटर बोतलबंद पानी उपलब्ध करा पाता है। शेष करीब आठ लाख लीटर बोलतबंद पानी के लिए उसे बाजार के अन्य ब्रांड की आपूर्ति पर निर्भर रहना पड़ता है।

आईआरसीटीसी की लगातार कोशिश है कि वह बोतलबंद पानी के लिए बाजार पर न निर्भर रहे।इस संबंध में आईआरसीटीसी के समूह महाप्रबंधक सियाराम ने बताया कि पहले आईआरसीटीसी के पास सात रेलनीर प्लांट थे। लेकिन अप्रैल 2019 में हापुड़ (उत्तर प्रदेश), सानंद (गुजरात) और मंडीदीप (मध्य प्रदेश) में नये रेलनीर प्लांट लगाये गये हैं। इसके बाद रोजाना 11 लाख लीटर बोतलबंद पानी की आपूर्ति की जा रही है। लेकिन अभी नौ लाख लीटर बोतलबंद पानी की जरूरत बनी हुई है, जिसकी आपूर्ति बाजार से होती है।

लेकिन छह नये प्लांट नागपुर, संकरैल (हावड़ा), जगीरोड (गोवाहाटी), जबलपुर, भुसावल और ऊना के निर्माण का एडवांस स्टेज पर हैं, जो मार्च 2020 में शुरू हो जाएंगे। इसके बाद विजयवाड़ा, विशाखापत्तनम और भुवनेश्वर में रेलनीर प्लांट की स्थापना प्रस्तावित है। इन नौ प्लांटों से रोजाना करीब 20 लाख लीटर बोतलबंद पानी की आपूर्ति होने लगेगी। इसके बाद शत-प्रतिशत बोतलबंद पानी रेलनीर की मांग आईआरसीटीसी खुद पूरी करने लगेगा। हालांकि इस बीच वाटर वेंडिंग मशीन से पानी लेने की यात्रियों की मांग बढ़ी है और रोजाना चार लाख लीटर पानी आपूर्ति वाटर वेंडिंग मशीन से हो रही है। 

चीयर्स डेस्क 

loading...
Close
Close