….अब असम में जहरीली शराब से डेढ़ सौ मरे !

यूपी में जहरीली शराब से सौ से अधिक लोगों की मौत का दर्द कम नहीं हुआ था कि असम में जहरीली शराब से मरने का सिलसिला शुरु हो गया, अभी तक अपुष्ट सूत्रों के अनुसार 150 लोगों की मौत हो चुकी है। मौतों का सिलसिला बंद नहीं हुआ है और अभी भी मरीज़ अस्पताल में लाए जा रहे हैं। प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो दो लाख और गंभीर रूप से बीमार लोगों को 50-50 हजार रुपए की सहायता देने की घोषणा की है।

गुरुवार को शुरु हुए इस शराब कांड का सबसे अधिक असर गोलाघाट और जोरहाट जिलों में रहा। ज़हरीली शराब पीने से गोलाघाट में 85 और जोरहाट में 58 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। अभी भी अस्पतालों में करीब 400 लोग बीमार हैं जिनमें से लगभग 200 लोग गंभीर रूप से बीमार हैं जिन्होंने ये ज़हरीली शराब पी थी। जोरहाट मेडिकल काॅलेज, गोलाघाट और सीताबात के सिविल अस्पतालों में इन लोगों का इलाज किया जा रहा है। इन अस्पतालों का दौरा करने वाले पत्रकारों का कहना है कि बीमार लोगों की स्थिति देखकर लगता है कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

 सहारनपुर और कुशीनगर में अवैध शराब से हुई तबाही-

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि असम में गोलाघाट जिले के एक चाय बागान में जहरीली शराब पीने से 23 महिलाओं समेत 124 लोगों की मौत हो गई। ये सभी लोग सलमीरा टी एस्टेट में काम करते थे। गुरुवार की रात में इन्होंने शराब पी जिसके बाद सभी बीमार पड़ गए। खुमतई से भाजपा विधायक मृणाल सैकिया ने इस सम्बंध में बताया कि 331 से ज्यादा लोगों ने शराब पी थी। सभी लोगों के बीमार पड़ जाने से इसके एक ही विक्रेता से खरीदे जाने का संदेह बढ़ गया है। बीमार लोगों का इलाज कर रहे एक चिकित्सक ने बताया कि जहरीली शराब पीने की वजह से ये मौतें हुई और अस्पताल लाए गए ज्यादातर लोगों के हालत गंभीर है। सिवाय एक के, सभी मृतकों की पहचान हो गई है।

पुलिस ने इस सम्बंध में अभी तक डेढ़ सौ से अधिक मामले दर्ज कर करीब 20 लोगों को गिरफ्तार किया है और लगातार छापेमारी चल रही है। पुलिस सूत्रों के अनुसार दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने अस्पतालों का दौरा कर सभी बीमारों को स्तरीय इलाज के निर्देश दिए तथा अपर असम मंडलायुक्त को जांच के आदेश दिए है।

चीयर्स डेस्क

loading...
Close
Close